एक बिहारी, सब पर भारी ! बिहारी लाल शुभम ने यूपीएससी में टॉप कर, बिहार का सिर देश में ऊँचा कर दिया, CM नीतीश ने दी बधाई

0

पटना: बिहार के लाल शुभम कुमार इस वर्ष यूपीएससी की परीक्षा में पूरे देश में टॉपर कर, बिहारियों का सिर देश में ऊँचा कर दिखा दिया है । वही बिहार के ही जमुई जिले के चकाई के रहने वाले प्रवीण कुमार सातवी और समस्तीपुर के सत्यम गाँधी स्थान 10वॉ स्थान पर पर आया है। वहीं लड़कियों में भोपाल मैनिट से इलेक्ट्रिकल इंजीरिंग से बीटेक कर चुकी जागृति अवस्थी टॉप की है |

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

बिहार के कटिहार जिले के जिला मुख्यालय से लगभग 40 किलोमीटर कुंभरी गांव के रहनेवाले शुभम के पिता उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक में कार्यरत है। भारत में यूपीएससी परीक्षा में टॉप करने वाले शुभम कुमार के परिवार काफी हर्ष और उल्लास के साथ खुशी मना रहे हैं।

यूपीएससी में टॉप करने वाले शुभम कुमार की इच्छा है कि उन्हें बिहार कैडर ही दिया जाए। शुभम ने बताया कि वह चाहते हैं कि वह बिहार में रहकर बिहार के विकास के लिए काम करें। उन्होंने कहा कि अगर उन्हें बिहार कैडर नहीं दिया जाता है तो वे मध्यप्रदेश में काम करना पसंद करेंगे। शुभम के पिता देवानंद सिंह ने बताया कि वह शुरू से ही काफी टैलेंटेड था। शुभम के पिता ने बताया कि पढ़ाई के प्रति लगन देखकर उन्होंने हर संभव प्रयास किया कि उनके पढ़ाई में कोई कमी ना रहे।

IAS की परीक्षा में ऑल इंडिया टॉप करने वाले शुभम फिलहाल इंडियन डिफेंस अकाउंट सर्विस में ट्रेनिंग कर रहे हैं। पूर्णिया से शुरुआती पढ़ाई करने वाले UPSC टॉपर शुभम कुमार ने बोकारो से 12वीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद बॉम्बे आईआईटी से सिविल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन की है।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने UPSC सिविल सेवा परीक्षा में प्रथम स्थान हासिल करने पर बिहार के शुभम कुमार को बधाई एवं शुभकामनाएं दी है। उन्होंने शुभम कुमार के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि बिहार के विकास आयुक्त आमिर सुबहानी जी ने भी पूर्व में प्रथम स्थान प्राप्त किया था।यूपीएससी में टॉप करने पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने शुभम कुमार को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना भी की है।

बताया जाता है कि शुभम के पिता ग्रामीण बैंक में कार्यरत हैं और शुरू से ही शुभम पढ़ाई लिखाई में काफी तेज था। शुभम की इस सफलता पर बिहार के शिक्षा मंत्री विजय चौधरी और बिहार विधान सभा के अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने भी उन्हें बधाई दी है। शुभम की मां ने बताया कि शुभम शुरू से ही पढ़ने में तेज था और उसकी इस सफलता से वह काफी खुश हैं। उन्होंने कहा कि बचपन से ही शुभम टॉपर रहा था। उन्होंने कहा कि वह चाहती है कि बिहार के सभी बच्चे शुभम की तरह तैयारी करें और बिहार का गौरव बढ़ाने का काम करें।

बिहार के उपमुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद भी कटिहार से आते हैं उन्होंने यूपीएससी ऑल इंडिया टॉप करने वाले शुभम को बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने सिर्फ कटिहार का ही नहीं बल्कि पूरे बिहार का मान बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि यूपीएससी में प्रथम स्थान प्राप्त करना काफी मुश्किल काम है लेकिन शुभम के इस सफलता पर हम सभी गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। बिहार के डिप्टी सीएम ने कहा कि वह चाहेंगे कि बिहार के रहने वाले शुभम कुमार बिहार के विकास के लिए काम करें।

बिहार के ही प्रवीण कुमार कुमार ने भी राज्य का गौरव बढ़ाते हुए UPSC की परीक्षा में सातवां रैंक हासिल किया है। आईआईटी कानपुर से पासआउट चकाई, जमुई के प्रवीण 2018 में भारतीय रेल सेवा के लिए चुने गए थे। अभी वड़ोदरा में उनकी ट्रेनिंग चल रही है। प्रवीण के पिता सीताराम वर्णवाल दवा की दुकान चलाते हैं। प्रवीण ने जसीडीह के रामकृष्ण मिशन से प्रारंभिक शिक्षा हासिल की है। मैट्रिक और इंटर सीबीएसआई से करने के बाद आईआईटी कानपुर से इंजीनियरिंग की। सिविल सेवा में दूसरे प्रयास में सफलता मिली है।

इससे पहले वर्ष 2000 में ऑलोक झा टॉपर बने थे। वहीं, 1997 में गया के सुनील कुमार बरनवाल ने शीर्ष स्थान प्राप्त किया था। 1987 में आमिर सुबहानी टॉप किये थे। जो अभी बिहार के विकास आयुक्त हैं। अभी तक बिहार के चार मेधावियों ने यूपीएससी में शीर्ष स्थान हासिल किया है। वर्ष 2020 में जागृति अवस्थी और अंकिता जैन ने क्रमश: दूसरा और तीसरा स्थान हासिल किया था।

इस परीक्षा में 10,40,060 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था जिसमें मात्र 4,82,770 अभ्यर्थियों ने ही परीक्षा में भाग लिया था. सिविल सेवा परीक्षा(मुख्य) का आयोजन जनवरी 2021 में किया गया था. मुख्य परीक्षा में कुल 2053 अभ्यर्थियों ने ही साक्षात्कार क्वालीफाई किया था. गौरतलब है 2053 अभ्यर्थियों में से 761 अभ्यर्थी ही सफ़ल रहें, जिनमें 545 पुरुष अभ्यर्थी और 216 महिला अभ्यर्थी शामिल है।