गोपालगंज के भोरे में फिर मिला एक युवक कोरोना पॉजिटिव, मचा हड़कंप

0
corona test
  • 9 मई को अपने 15 साथियों के साथ आया था भुसावल से
  • 20 मई को लिया गया था 50 लोगों का सैम्पल,एक की ही आई रिपोर्ट

परवेज अख्तर/गोपालगंज:- शुक्रवार को भोरे प्रखंड के कुवाडीडीह पंचायत स्तरीय क्वारंटाइन सेंटर में रह रहा एक 19 बर्षीय प्रवासी मजदूर जांच में कोरोना पॉजिटिव मिला।इससे पूरे क्षेत्र में हड़कंप मच गया है।मजदूर की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने की सूचना मिलते ही रेफरल अस्पताल भोरे के स्वास्थ्य प्रबन्धक और प्रभारी की देखरेख में उसे गोपालगंज भेज दिया गया।यह मरीज गत 9 मई को ही अपने 15 अन्य साथियों के साथ कुवाडीडीह पहुंचा था।प्रशासन की तरफ से उन्हें क्वारंटाइन कराने की जब कोई पहल नहीं की गई तो जिला कुश्ती संघ के महासचिव राम पूजन साहनी की सलाह पर स्वयं ही सभी क्वारंटाइन हो गए थे। कोई भी अपने घर नहीं गया था,जिसका सबसे बड़ा फायदा आज मिला।इनके परिवार के किसी भी सदस्य को जांच के लिए और सैम्पल देने के लिए क्वारंटाइन सेंटर नहीं ले जाना पड़ा।पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद तीन किलोमीटर के दायरे की तीन पंचायतों डोमनपुर, लामिचौर और हुस्सेपुर को सील करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

20 मई को क्वारंटाइन सेंटर से भेजा गया था जांच के लिए सैम्पल

9 मई को भुसावल से आए 16 सहित 50 प्रवासी मजदूरों का सैम्पल जांच के लिए भेजा गया था।शुक्रवार को एक मजदूर का ही रिपोर्ट आया और वह भी पॉजिटिव।अन्य मजदूरों की रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा कि कोई और संक्रमित है या नहीं।चूंकि सभी प्रवासी मजदूर बाहर से आने के बाद अपने घर नहीं जाकर सीधे क्वारंटाइन सेंटर पर सेल्फ क्वारंटाइन हो गए थे।इसलिए परिवार के किसी सदस्य को जांच के लिए नहीं ले जाना पड़ा।

तीन किलोमीटर के दायरे की तीन पंचायतें की जाएंगी सील

कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद तीन किलोमीटर के दायरे में आनेवाली तीन पंचायतों हुस्सेपुर, डोमनपुर और लामिचौर के गांवों को कंटेन्मेंट जोन घोषित करते हुए सील करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बीडीओ पन्ना लाल ने बताया कि सील किए गए सभी गांवों के आवागमन मार्गों को पंचायत प्रतिनिधियों के सहयोग से बांस बल्ली लगाकर पूर्णतः लॉक करने का आदेश दिया गया है।