कोविन पोर्टल पर लगभग 4.62 लाख लाभार्थियों का हुआ पंजीकरण

0
  • राज्य के प्रत्येक टीकाकरण केन्द्रों पर जैव चिकित्सा अपशिष्टों के प्रबंधन की होगी व्यवस्था
  • राज्य में कोविड टीकाकरण की सभी रूपरेखा है तैयार
  • राज्य भर में कोविड-19 टीके के भण्डारण की पूरी है व्यवस्था

पटना/ छपरा: राज्य में होने वाले कोविड-19 टीकाकरण को लेकर राज्य सरकार एवं स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह तैयार है. कोरोना टीकाकरण के प्रथम चरण में चिन्हित सरकारी एवं निजी स्वास्थ्य संस्थानों के स्वास्थ्यकर्मियों का कोविन पोर्टल पर निबंधन का कार्य भी तेजी से हो रहा है. राज्य स्वास्थ्य समिति द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार अभी तक बिहार में 462026 लाभार्थियों का पंजीकरण किया जा चुका है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

कोविड टीकाकरण के दौरान बायो वेस्ट मैनेजमेंट का रखा जायेगा ध्यान

सहायक निदेशक , राज्य स्वास्थ्य समिति, पीयूष कुमार चन्दन ने बताया सभी टीकाकरण केन्द्रों पर कोविड टीकाकरण के उपरान्त जनित जैव चिकित्सा अपशिष्टों के प्रबंधन(बायो वेस्ट मैनेजमेंट) हेतु कलर कोडेड बैग्स पर्याप्त मात्र में उपलब्ध रहेगी. इन सभी थैलियों को टीकाकरण केन्द्रों से निकटतम शीत श्रृंखला स्थल (कोल्ड चेन पॉइंट) तक लाया जायेगा. वहां से सम्बंधित जैव चिकित्सा अपशिष्ट उपचार केंद्र के माध्यम से उठाव कर उनका निष्पादन किया जायेगा.

राज्य में सभी जिलों में कोल्ड चेन पॉइंट को किया जा रहा सशक्त

राज्य स्वास्थ्य समिति द्वारा बताया गया है राज्य के सभी जिलों में कोल्ड चेन पॉइंट को सशक्त किया जा रहा है ताकि कोविड टीकाकरण के दौरान टीकों के रख-रखाव एवं प्रबंधन में किसी भी प्रकार की समस्या न हो. सभी जिलों के जिलाधिकारी इसका निरिक्षण कर रहे हैं और टीकाकरण की शुरुआत होने पर किसी तरह की समस्या न हो ये सुनिश्चित करने का प्रयास कर रहे हैं. कोविड टीके के भण्डारण एवं इसे राज्य के अन्य क्षेत्रीय भंडार केन्द्रों तक पहुँचाने में एनएमसीएच स्थित राज्य टीकौषधी भंडार की भूमिका अहम होगी. राज्य टीकौषधी भंडार में कोविड-19 के टीके के भण्डारण के लिए एक वाक इन कूलर को चिन्हित किया गया है, जिसकी क्षमता लगभग 3 लाख वायल है. अब तक राज्य के 21 जिलों को कोविड-19 के टीका कार्य के लिए सिरिंज भी उपलब्ध करायी जा चुकी है.

कोविड-19 वैक्सीन है सभी के लिए सुरक्षित

कोविड का टीकाकरण जल्द ही पूरे देश में शुरू हो जाएगा. सभी प्रमाणित वैक्सीन पूरी प्रक्रिया के गुजरने का बाद ही स्वीकृत की गयी है और पूर्णतया सुरक्षित है. चरणवार तरीके से इसे सभी को उपलब्ध कराने की सरकार की योजना है और जल्द ही वैक्सीन सभी जनमानस के लिए उपलब्ध होगी.