भूम‍ि व‍िवाद दो गुटों में हुई पत्‍थरबाजी के बाद हवाई फायर‍िंग शुरू, इलाके में दहसत

0

पश्‍च‍िम चंपारण: स्थानीय थाना क्षेत्र के झझरी गांव में सोमवार को भूमि विवाद को लेकर दो गुटों के बीच जमकर पत्थरबाजी हुई। माहौल इतना गरम हो गया कि वर्चस्व जमाने के उद्देश्य से हवाई फायर‍िंग भी की गई। हालांकि पत्थबाजी में किसी के चोटिल होने की सूचना नहीं है। घटना कीसूचना मिलते ही इनरवा पुलिस मौके पर पहुंच दोनों गुटों के लोगों को समझा-बुझाकर मामले को शांत कराया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

हालांकि पुलिस ने हवाई फायङ्क्षरग की घटना से इंकार किया है। बताया जाता है कि मनोज प्रसाद व उमेश कुमार के बीच भूमि को लेकर विवाद चल रहा है।एक ही भूमि को दोनों पक्षों ने रजिस्ट्री करा लिया है। सोमवार को एक पक्ष के द्वारा खेत की जुताई कराया जा रहा था। तभी दूसरे पक्ष के लोग भी वहां पहुंचे और अपना-अपना जमीन बताकर आपस में भींड़ गए तथा मारपीट शुरू कर दिए। फिलहाल गांव में तनाव है। थानाध्यक्ष प्रकाश कुमार ने बताया कि दोनों पक्ष को थाने लाया गया है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

वीरेंद्र अपहरणकांड में साजिश की आशंका से इन्कार नहीं, जांच जारी

बगहा। नदी थाने के नैनाहा ढाला से अगवा वीरेंद्र प्रसाद को नदी थाने की पुलिस ने बेतिया के मनुआपुल थाने से बरामद किया। कथित रूप से अपहृत युवक से हुई पूछताछ में कई तथ्य उभर कर सामने आए हैं। पुलिस साजिश से इन्कार नहीं कर रही है। कारण कि अपहरण अवधि में अपहृत ने अपने दोस्तों समेत दर्जनों अन्य लोगों से मोबाइल पर बातचीत की है।

पुलिस उसके मोबाइल का कॉल डिटेल खंगाल रही है। पुलिस का दावा है कि कथित रूप से अपहृत ने खुद ही घर छोड़ा और पुलिस से बचने के लिए इस तरह की साजिश रच डाली। इस बात को बल इस लिए मिल रहा है कि बीते 20 दिनों में किसी के द्वारा फिरौती की मांग नहीं की गई। जबकि युवक का कहना है कि उसे जिन लोगों ने अपहरण किया था वे जान मारने की धमकी दे रहे थे।

बगहा एसडीपीओ कैलाश प्रसाद ने बताया कि युवक बार बार बयान बदल रहा है। जिससे पुलिस अबतक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। उन्होंने कहा कि विभिन्न नंबरों पर हुई बातचीत के संबंध में जब वीरेंद्र से पूछताछ की गई तो जानकारी मिली कि जिन लोगों ने उसका अपहरण कर किया था उन्हीं लोगों के द्वारा जबरन बात कराया जाता था। विदित हो कि विरेन्द्र प्रसाद के अपहरण होने के बाद उसकी पत्नी प्रीति देवी के द्वारा नदी थाने में प्राथमिकी दर्ज कराते हुए आरोप लगाया था कि पांच लोगों ने मिलकर उसके पति का नैनाहा ढाला से अपहरण कर लिया गया। जिसके बाद पुलिस ने अनुसंधान शुरू किया।