मौत के बाद आनन-फानन में शुरू हुआ एंटी डेंगू कैंप

0
dengu positive

परवेज अख्तर/सिवान : शहर के दखिन टोला स्थित शहदानी चौक निवासी बेबी खातून की डेंगू से मौत के बाद मंगलवार से स्वास्थ्य विभाग ने एंटी डेंगू कैंप की शुरुआत कर दी है। शेख मोहल्ला में मंगलवार को एंटी डेंगू कैंप लगाया गया। जहां से स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू के 22 संभावित मरीजों का सैंपल लिया। इस दौरान एंटी डेंगू कैंप में कुल 29 लोग पहुंचे थे। सरकारी आंकड़ों की माने तो जिले में अब तक डेंगू के कुल 16 मामले हैं। वहीं सूत्रों का कहना है कि पटना गए 44 सैंपल में से 5 का डेंगू पॉजिटिव आया है। ऐसे में अब कुल डेंगू पीड़तों की संख्या 21 हो जाएगी।

स्वास्थ्य विभाग से पहले कोई सूचना नहीं

मोहल्ले के लोगों का आरोप है कि एंटी डेंगू कैंप के संबंध में स्वास्थ्य विभाग पहले से कोई सूचना नहीं दे रहा है। जिसकी वजह से लोगों को कैंप के सही लोकेशन का पता नहीं चल रहा है। यहीं वजह है कि एंटी डेंगू कैंप में लोगों की संख्या कम रह रही है। हालांकि मोहल्ले के लोगों का कहना है कि शुक्लटोली, पुरानी किला, मकदुम सराय जैसे इलाकों से बड़ी संख्या में लोग रोज निजी लैबों में जाकर डेंगू की जांच करा रहे हैं। जबकि स्वास्थ्य विभाग की टीम इसे गंभीरता से लेने की बजाय अब भी कोरम पूरा करने में जुटी है।

नगर परिषद् द्वारा फागिंग में भी घपला

मलेरिया विभाग के एक कर्मी का कहना है कि इलाके में फॉगिंग के मुद्दे पर वे नगर परिषद् से लगातार बात कर रहे हैं। लेकिन नगर परिषद् इसे गंभीरता से नहीं ले रहा है। बताया जा रहा है कि डेंगू की शुरुआत में ही यदि स्वास्थ्य विभाग व नगर परिषद् इसे गंभीरता से लिया होता तो आज स्थिति इतनी भयावह नहीं हुई रहती। वहीं नाम नहीं छापने के शर्त पर एक निगम पार्षद ने कहा कि नगर परिषद् द्वारा फागिंग में भी घपला किया जा रहा है। यही वजह है कि मच्छरों पर इसका कोई असर नहीं हो रहा है।