पट खुलते ही माता ने दिया भक्तों को दर्शन, जयकारे से गूंजायमान हुआ पूरा क्षेत्र

0

परवेज़ अख्तर/सिवान:
कोरोना काल में इस बार दुर्गापूजा की रौनक फीकी रही इसके बावजूद पूजा के प्रति लोगों की आस्था बनी रही। शारदीय नवरात्र की सप्तमी यानी शुक्रवार को देवी मंदिरों में मां दुर्गा का पट खुलते ही भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी। साक्षात मां के दर्शन करने को उतावले हर उम्र के भक्त पंडाल तक पहुंचने लगे। शेर पर सवार मां के दर्शन के बाद ही भक्त अपने अपने कामों को गए। पूरे दिन मां की पूजा-अर्चना होती रही। भक्त भी मां की आराधना में लीन रहे। पट खुलते ही मां के चरणों में बली प्रदान का कार्य प्रारंभ हो गया। पूजा स्थल पर भी जय माता दी की उद्घोष के बीच मां के दर्शन को तांता लगा था। पट खुलने के बाद से ही लगातार पूजा-अर्चना के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ देखी गई। नगर के साथ ग्रामीण इलाकों में भी लोगों ने मां दुर्गा की पूजा आराधना की। इस दौरान भक्तों ने मां के दर्शन कर वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण को दुनिया से खत्म करने और अपनी और परिवार की सलामती की दुआएं मांगी।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
a1
ads
WhatsApp Image 2020-11-09 at 10.34.22 PM
adssssssss
a2

शुभ मुहूर्त में घंटे-घड़ियाल एवं शंख ध्वनियों के बीच पट खोलने का सिलसिला शुरू हो गया। भक्ति गीतों की गूंज उठने लगी। या देवी सर्व भूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता जैसे महामंत्र से गूंजते रहे। शहर के गांधी मैदान स्थित बुढि़या माई मंदिर, महादेवा स्थित दुर्गा मंदिर, कचहरी स्थित काली मंदिर, शेखर सिनेमा स्थित संतोषी माता मंदिर, सुदर्शन चौक स्थित दुर्गा मंदिर, डीएवी मोड़ स्थित दुर्गा मंदिर समेत ग्रामीण क्षेत्रों के मंदिरों में माथा टेकने को श्रद्धालुओं की भीड़ लगी थी। भक्तों की ऐसी आस्था कि कोरोना संक्रमण के बावजूद मां के दर्शन करने को लेकर उनके दरबार में हाजिरी लगाते रहे। बता दें कि कोरोना महामारी के कारण राज्य सरकार के निर्देश पर जिला प्रशासन द्वारा इसबार पूजा समितियों से पंडालों में प्रतिमा स्थापित नहीं करने की अपील की गई थी। कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बार शहर में बड़े पूजा पंडाल नहीं बनाए गए। परंपरा को बरकरार रखने को लेकर पूजा समितियों ने कलश स्थापित करने के साथ मां दुर्गा की छोटी प्रतिमा की पूजा-अर्चना की।

ग्रामीण क्षेत्रों में भी विधि विधान से हुई मां की पूजा अर्चना

दूसरी ओर ग्रामीण क्षेत्रों में भी मां की पूजा अर्चना की गई। रघुनाथपुर के राजपुर गांव में सादगी पूर्वक मां दुर्गा की प्रतिमा रख कर पूजा अर्चना की गई। इस दौरान पंडाल में मां की पूजा करने आने वाले श्रद्धालुओं की पूजा समित्ति द्वारा पहले थर्मल स्क्रंीनिग कर सैनिटाइजर, मास्क आदि देने के बाद ही पूजा करने की अनुमति दी जा रही थी। वहीं महाराजगंज शहर के नखास चौक बडी देवी, राजेन्द्र चौक, शिव मंदिर, फुलेना शहीद स्मारक, पसनौली, पकवा इनार के पास स्थापित की गई मां दुर्गा की प्रतिमा का पट पूरे विधि विधान से खोला गया। जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में आकाशी मोड, कर्णपुरा बाजार,पोखरा, अफराद, तरवारा बाजार, दीनदयालपुर, फख्रुद्दीनपुर, शिवदह, खम्हौरी, महुआरी, पटेढी में भी मां का पट खोलकर पूजा अर्चना की गई। इसके साथ ही जीरादेई, मैरवा, नौतन, आंदर, बड़हरिया, गुठनी, दरौली, भगवानपुर हाट, बसंतपुर, लकड़ी नबीगंज, दारौंदा, पचरुखी समेत सभी प्रखंडों में पूजा अर्चना की गई।