बड़हरिया में चुनावी हलचल और हुई तेज, बच्चा पांडेय ने राजद पार्टी का थामा दामन

0

परवेज अख्तर/सिवान : “बहुत देर से दर पे आंखें लगी थी, हुजूर आते-आते बहुत देर कर दी, मसीहा मेरे तूने बीमार-ए-गम की दवा लाते-लाते बहुत देर कर दी! ” यह गीत उस समय चरितार्थ होने लगी कि जब सिवान भाजपा एमएलसी टुन्ना जी पांडेय के सगे भाई श्री बच्चा जी पांडेय राजद पार्टी का दामन थाम लिया। राजद की सदस्यता ग्रहण के बाद बड़हरिया विधान सभा क्षेत्र में चुनावी हलचल और तेज हो गई है। बतादें की श्री पांडेय बड़हरिया से अपना भाग्य लोक जनशक्ति पार्टी के बैनर तले अजमा चुके है। इस दौरान जेडीयू के विधायक श्री श्याम बहादुर से इन्हें काफी मतों से पछाड़ा था।यहां बताते चले कि टिकट की होड़ में फिलहाल राजद से कई उमीदवार अपनी-अपनी दावेदारी ठोक रहे है।उधर भाजपा व जदयू आगामी विधान सभा चुनाव सूबे के मुखिया श्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में लड़ेगी।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

bachha pandey

यह भाजपा के आलाकमान श्री अमित शाह ने पूर्व में इसकी घोषणा कर चुके है। उधर श्री बच्चा जी पांडेय द्वारा राजद पार्टी की सदस्यता ग्रहण के बाद जेडीयू के पूर्व जिलाध्यक्ष श्री मुर्तुजा अली कैसर ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि अगर बच्चा जी पांडेय को राजद द्वारा अपना सिंबल देखकर चुनावी अखाड़ा में उतारती है तो हमारे जेडीयू के उम्मीदवार पिछले विधानसभा चुनाव के अपेक्षा इस चुनाव में चौगुना मतों से पराजित कर उन्हें गोरखपुर लौटाने का काम करेगें।क्योंकि सूबे के मुखिया श्री नीतीश कुमार के द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं को धरातल पर उतारने का काम हम सबों ने किया है।जिससे जनता में विश्वास हमारे सूबे के मुखिया श्री नीतीश कुमार के प्रति और बढ़ा है।दूसरी ओर जेडीयू के वरिष्ठ नेता सह सैफी समाज के प्रदेश अध्यक्ष अमीर उल्लाह सैफी ने भी एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि “जो लोग दिनभर फूलों को पैरों से कुचल कर चलते हैं और शाम के समय में “चमन ” की रहनुमाई का दावा करते हैं” वैसे लोगों को बड़हरिया विधानसभा क्षेत्र की जनता भली-भांति समझ चुकी है।

party

वह किसी के बहकावे में आने वाली नही है सूबे के मुखिया श्री नीतीश कुमार ने संपूर्ण बिहार में अल्पसंख्यकों के लिए जो भी कदम उठाया है वह काफी सराहनीय है। श्री कुमार द्वारा अल्पसंख्यकों के लिए चलाई जा रही योजनाओं का कर्ज हमारे बिहार के अल्पसंख्यक समुदाय के लोग उसे अपना कर्ज के रूप में मान रहे। जिसका भर पाया आगामी विधानसभा चुनाव के दौरान ईवीएम का बटन दबाकर कर देंगे।बहरहाल चाहे जो हो श्री बच्चा पांडेय ने राजद पार्टी का दामन अंततः थाम लिये है।अब देखना है कि टिकट की होड़ में वे कहां तक सफल हो पाते हैं या नहीं ? यह तो गर्व की बात है ? लेकिन फिलहाल पार्टी की सदस्यता ग्रहण के बाद संपूर्ण विधानसभा क्षेत्र के हरेक चौक चौराहों पर चहुओर चर्चा हो रही है।लोग जितनी मुंह उतनी बातें कर रहे हैं। हालांकि राजद के कई उम्मीदवार पूर्व से ही चुनावी मैदान में उतर कर आम जनता के बीच अपनी-अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं। वहीं जेडीयू विधायक श्री श्याम बहादुर सिंह भी अपने विधानसभा क्षेत्र के हर एक गांव में जाकर सरकार की उपलब्धियां गिना रहे हैं।

car