बिहार में थानेदार के साथ-साथ दारोगा भी हो जाएं सावधान, क्राइम हुआ तो सिपाहियों पर ही होगी कार्रवाई

0

पटना: बिहार में इन दिनों अपराधियों ने पुलिस की नाक में दम कर दिया है. आये दिन अपराधी बड़ी वारदात को अंजाम देकर निकल जा रहे हैं. बिहार पुलिस के मुखिया ने भी इसपर सख्ती दिखाई है. शनिवार को मुख्यमंत्री के आदेश के बाद डीजीपी एसके सिंघल और भी ज्यादा सख्त हो गए हैं. उन्होंने आदेश दिया है कि जिस इलाके में अब क्राइम होगी उसके प्रभारी और उनके साथ रहने वाले जवान दोषी होंगे और उनके खिलाफ कडा एक्शन लिया जायेगा.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

बिहार में अब तक किसी भी इलाके में क्राइम होने पर सीधे थानेदार के ऊपर कार्रवाई हो रही थी. लेकिन अब सीधे तौर पर ऐसा नहीं होगा क्योंकि डीजीपी ने यह आदेश दिया है कि जिस इलाके में अब क्राइम होगी उसके प्रभारी और सिपाही पर ही कार्रवाई की जाएगी. इसके अलावा बिहार में दिल्ली के तर्ज पर बीट पुलिसिंग की व्यवस्था की गई है. स संबंध में डीजीपी एसके सिंघल की तरफ से एक आदेश जारी किया गया है. इस आदेश को लेकर आईजी मुख्यालय नैयर हसनैन खान ने सभी रेंज के आईजी, डीआईजी, एसएसपी और एसपी (रेल सहित) को एक लेटर 27 नवंबर को ही भेज दिया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस मुख्यालय ने सिपाहियों और हवलदारों के लिए खास निर्देश दिया है. बड़ी बात यह है कि वैसे सिपाही जिनकी नौकरी अभी 10 साल से कम की है, इन सभी को ऑफिस और स्टैटिक ड्यूटी से हटाने का आदेश दिया गया है. ऐसे सिपाहियों को हथियार के साथ फील्ड ड्यूटी लेने को कहा गया है. साथ ही अपराधियों, जमीन, बालू और शराब माफियाओं के साथ सांठगांठ रखने वाले पुलिस अफसर व जवानों के खिलाफ कंप्लेन मिलने पर कड़ी कार्रवाई करने को कहा है.

वैसे भी पुलिसवालों के ऊपर कार्रवाई करने का आदेश दिया गया है, जो गलत काम करते हुए पकडे गए हैं, जिनकी बर्खास्तगी की प्रक्रिया अभी पेंडिंग है. बर्खास्तगी की कार्रवाई को पुलिस महानिदेशक ने जल्द से जल्द पूरा करने का आदेश दिया है