बेतिया की नाबालिग से सवा महीने तक रेप, अगवा कर गोरखपुर ले गए, बंधक बनाकर किया दुष्कर्म, खेत में बेहोशी की हालत में मिली

0

पटना: बेतिया के गौनाहा थाना क्षेत्र के एक गांव से नाबालिग का अपहरण कर सवा महीने तक दुष्कर्म किया गया। तीन युवकों ने बीते सात अक्टूबर को नाबालिग को घर से अगवा किया था। नरकटियागंज जंक्शन पर तीनों ने उसे चौथे युवक को सौंप दिया। चौथा युवक उसे लेकर गोरखपुर चला गया। वहां सवा महीने तक दुष्कर्म किया। किसी तरह नाबालिग उसके चंगुल से छूटकर भाग निकली। किसी व्यक्ति ने उसे नरकटियागंज वाली बस पर बैठा दिया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 7.27.12 PM
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

नरकटियागंज पहुंचते ही एक बार फिर से युवकों ने उसे दबोच लिया। शोर मचाने पर नश सूंघा दिया। इसके बाद वह बेहोश गई। तब युवकों ने उसे घर के पिछवाड़े स्थित धान के खेत में फेंक दिया। परिजनों ने उसे नरकटियागंज अस्पताल में भर्ती कराया। एसडीपीओ कुंदन कुमार ने बताया कि अपहरण की एफआईआर 20 अक्टूबर को दर्ज होने के बाद नाबालिग की तलाश में पुलिस जुटी थी। अब एफआईआर में जांच के बाद दुष्कर्म की धारा जोड़ने के लिए न्यायालय में आवेदन दिया जाएगा।

गौनाहा थानाध्यक्ष राजीव नंदन सिन्हा ने बताया कि रविवार की देर रात परिजन लड़की को लेकर अस्पताल पहुंचे थे। लड़की ने अपहर्ता पर गोरखपुर में बंधक बना रखने व दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। उसे मेडिकल जांच के लिए जीएमसीएच बेतिया भेजा जा रहा है। उसका बयान न्यायालय में दर्ज कराया जाएगा। पूर्व में दर्ज एफआईआर में अपहरण व पॉस्को की धारा है। लड़की के बयान व मेडिकल रिपोर्ट के आधार दुष्कर्म की धारा जोड़ने के लिए न्यायालय में आवेदन दिया जाएगा।

मुंह-हाथ बांध टेम्पो से किया नाबालिग का अपहरण

नाबालिग ने पुलिस को बताया कि बीते सात अक्टूबर को वह घर में सोई थी। तभी दरवाजा खटखटाने की आवाज सुनाई दी, दरवाजा खोलते ही तीन युवकों ने मुंह बंद कर दिया। हाथ-पैर के साथ मुंह भी कपड़े से बांधकर टेम्पो पर बैठा लिया। इसके बाद वे लोग उसे नरकटियागंज जंक्शन ले गये। यहां तीनों ने उसे जमकर पीटा। वह गिड़गिड़ाती रही लेकिन किसी ने उसकी नहीं सुनी। बाद में उनलोगों ने नाबालिग को इंजील हक को सौंप दिया। वह उसे लेकर गोरखपुर चला गया। वहां लगातार दुष्कर्म करता था। मना करने पर पिटाई भी करता था। इसी बीच मौका पाकर वह वहां से भाग निकली। किसी तरह नरकटियागंज पहुंची, यहां आरोपितों ने उसे एक बार फिर से दबोच लिया। यहां शोर मचाने की कोशिश की, लेकिन उनलोगों ने उसे नशा सूंघा दिया। इससे वह बेहोश हो गई। इसके बाद पता नहीं क्या हुआ।