अभी-अभी : बिहार में खत्म हुआ लॉकडाउन, शाम 5 बजे तक खुलेंगी दुकानें, जारी रहेगा नाइट कर्फ्यू

0
lockdown end in bihar
  • मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने ट्वीट कर दी जानकारी
  • शाम 7 बजे से सुबह के 5 बजे तक जारी रहेगा नाइट कर्फ्यू

परवेज अख्तर/एडिटर-इन-चीफ :

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

बिहार में कोरोना संक्रमण की रफ़्तार धीमी हो गयी है जिसको देखते हुए नितीश सरकार ने लॉकडाउन हटाने का निर्णय लिया है। हालांकि नाइट कर्फ्यू जारी रहेगा। इस बात का फैसला मंगलवार को बिहार सरकार के क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में हुआ। दरअसल पहले से ही ये कयास लगाए जा रहे थे कि बिहार सरकार कोविड-19 के केस कम होने की वजह से लोगों को लॉकडाउन से राहत दे सकती है। मंगलवार को बिहार सरकार के इस महत्वपूर्ण बैठक में लॉकडाउन को हटाने के फैसला पर मुहर लग गई।

हालांकि सरकार ने इस दौरान कई तरह की बंदिशों को लागू रखा है और इसको लेकर जल्द ही निर्देश भी जारी किए जाएंगे। बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि लॉकडाउन से कोरोना संक्रमण में कमी आई है अतः लॉकडाउन खत्म करते हुये शाम 7 बजे से सुबह 5 बजे तक रात्रि कर्फ्यू जारी रहेगा। 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ सरकारी एवं निजी कार्यालय 4 बजे अपराह्न तक खुलेंगेय दुकान खुलने की अवधि 5 बजे अपराह्न तक बढेंगी। आनलाईन शिक्षण कार्य किये जा सकेंगे साथ ही निजी वाहन चलने की अनुमति रहेगी। यह व्यवस्था अगले एक सप्ताह तक रहेगी। अभी भी भीड़भाड़ से बचने की आवश्यकता है।

बिहार में अब तक चार बार लॉकडाउन का विस्तार किया जा चुका है। कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए राज्य सरकार ने 5 मई से बिहार में लॉकडाउन लगाया था जो पहली बार 15 मई तक था। बाद में इसे 25 तारीख तक बढ़ाया गया। इसके बाद नीतीश सरकार ने एक सप्ताह तक इसे और बढ़ाने का फैसला लिया और फिलहाल लॉकडाउन 4 की अवधि 2-8 जून तक के लिए जारी है।

गौरतलब है कि मई के पहले सप्ताह में कोरोना की दूसरी लहर के बेकाबू होने के बाद राज्य सरकार ने पूर्ण लॉकडाउन को लागू करने का फैसला किया था। पहले यह पांच से 15 मई के लिए लागू किया गया। इसके बाद इसे 16 से 25 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया। स्थिति की समीक्षा के उपरांत इसको 26 मई से एक जून और दो जून से आठ जून तक विस्तारित किया गया था। इस दौरान यातायात और सामूहिक आयोजनों को पूरी तरह से बंद कर रखा गया। स्कूल, काॅलेज व कोचिंग को बंद कर दिया गया। परीक्षाएं स्थगित कर दी गई थीं। इस फैसले के बाद कोरोना संक्रमण की चेन को ब्रेक करने में मदद मिली।