BJP विधायक की नीतीश सरकार से मांग- “यूपी की तर्ज पर बिहार में भी पलटे अपराधियों की गाड़ी”

0

पटना: भारतीय जनता पार्टी के विधायक पवन जायसवाल ने उत्तर प्रदेश की तर्ज पर बिहार में अपराधियों के खात्मे की मांग की है. पवन जायसवाल ने कहा कि बिहार में भी उत्तर प्रदेश की तर्ज पर गाड़ी पलटना जरूरी है और उत्तर प्रदेश की सरकार ने कर दिखाया है. उन्होंने यह भी कहा कि बिहार में जिन अपराधियों का मनोबल बढ़ गया है और जिनमें कानून का खौफ खत्म हो गया है, उनके लिए गाड़ी पलटना जरूरी है. पवन जायसवाल ने इशारों-इशारों में कहा कि बिहार में भी एनकाउंटर अब जरूरी हो गया है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

जेडीयू के वरिष्ठ मंत्री अशोक चौधरी ने राज्य में बढ़ते अपराध पर कहा कि हमारी सरकार गाड़ी पलटने में विश्वास नहीं करती. उन्होंने यह भी कहा कि कुछ अपराधिक घटनाएं हुई हैं जिस पर माननीय मुख्यमंत्री ने भी चिंताएं व्यक्त की हैं. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अमन-चैन के लिए लगातार काम कर रही है और मुख्यमंत्री लगातार पूरे मामले को लेकर पुलिस को निर्देश भी दे रहे हैं. अशोक चौधरी ने कहा कि गाड़ी पलटना समस्या का समाधान नहीं है. सरकार पूरे मामले को लेकर गंभीर है. आज अमन चैन कायम रहे इसके लिए लगातार बिहार पुलिस की टीम काम कर रही है. अशोक चौधरी ने यह भी कहा कि अपराध को नियंत्रण करने को लेकर जो कुछ निर्णय हुए हैं उनको लागू करने में निश्चित तौर पर समय भी लगता है.

आरजेडी-कांग्रेस ने कही ये बात

आरजेडी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री चंद्रशेखर ने कहा है कि अपराधियों के हौसले बुलंद हैं और वह पुलिस को चुनौती देता है तो उसका एनकाउंटर करना सही है. लेकिन चंद्रशेखर ने यह भी कहा कि जाति देखकर किसी अपराधी का एनकाउंटर नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा कि यूपी की तर्ज पर एनकाउंटर नहीं हो सकता क्योंकि यूपी में निर्दोष की हत्या हो रही है. उन्होंने यह भी कहा कि अगर कोई अपराधी कानून को चुनौती देता है तो उसका एनकाउंटर हो यह सही है.

बढ़ते अपराध पर कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने सरकार से मांग की है कि रोजगार के अवसर बिहार में पैदा करें. जैसे ही युवाओं को रोजगार मिलेगा बिहार में अपराध कम हो जाएगा. उन्होंने कहा कि हम यूपी के तर्ज पर यहां काम नहीं करना चाहते. अजीत शर्मा ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री को एक बार फिर राज्य की पुलिस को अपराधियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई का निर्देश देना चाहिए.