सिवान सदर में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत प्रखंड स्तरीय कर्मशाला सह प्रशिक्षण आयोजित

0
Siwan Online News

परवेज अख्तर/सिवान: सीवान सदर के ई-किसान भवन सभागार में कृषि विभाग की उद्यान इकाई द्वारा प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (PDMC-MI) अन्तर्गत प्रखंड स्तरीय कर्मशाला सह प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन प्रखंड उद्यान कार्यालय द्वारा आयोजित किया गया. कार्यक्रम का उद्घाटन प्रखण्ड स्तरीय किसान सलाहकार समिति के अध्यक्ष रंजन सिंह, कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक प्यारे मोहन पांडे, सहायक निदेशक (उद्यान) अभिजीत कुमार एवं आत्मा के उपपरियोजना निदेशक कालीकांत चौधरी द्वारा संयुक्त रूप से किया गया. कार्यक्रम को संबोंधित करते हुए सहायक निदेशक (उद्यान) अभिजीत कुमार द्वारा उद्यान निदेशालय से संचालित टपक सिंचाई, बौछारी सिंचाई, मुफ्त सामुदायिक नलकूप योजना, प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना (पीएमएफएमई) योजना के बारे में विस्तृत रूप से चर्चा किया गया. कार्यक्रम में आये हुये कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक श्री प्यारे मोहन पाण्डेय द्वारा ड्रिप, मिनी स्प्रिंकलर, पोर्टेबुल स्प्रिंकलर आदि सिंचाई पद्धतियों के तकनीकी पहलुओं को विस्तृत रूप से बताया गया.

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

आत्मा के उपपरियोजना निदेशक श्री कालीकान्त चौधरी द्वारा प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (PDMC-MI) का लाभ लेने हेतु किसानों को प्रोत्साहित किया गया. प्रखंड उद्यान पदाधिकारी सीवान सदर मनीष पांडे द्वारा बिहार कृषि निवेश प्रोत्साहन नीति (BAIPP) के बारे में बताया गया. श्री पांडे द्वारा खाद्य प्रसंस्करण उद्योग लगाने हेतु पूंजी अनुदान एवं प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन (PMFME) योजनान्तर्गत एक जिला एक उत्पाद (ODOP) के बारे में विस्तृत चर्चा करते हुए बताया गया कि सीवान जिले को मेन्था की खेती हेतु अधिसूचित किया गया है. कार्यक्रम के अन्त में आये हुये सभी पदाधिकारियों एवं कृषकों का धन्यवाद ज्ञापन किसान सलाहकार समिति के अध्यक्ष रंजन सिंह द्वारा एवं कार्यक्रम का संचालन सहायक तकनीकी प्रबंधक सीवान सदर विपिन कुमार चतुर्वेदी द्वारा किया गया. कार्यक्रम में सीवान सदर प्रखंड के सभी किसान सलाहकारों के साथ-साथ प्रगतिशील कृषक श्री रामबिलास, सूर्य प्रसाद, हरिशंकर साह इत्यादि अन्यान्य कृषक उपस्थित रहे.