सारण के सोनपुर निवासी व्यवसायी ने गोली मारकर किया आत्महत्या

0

रोहित हीरो मोटरसाइकिल हाजीपुर एजेंसी के संचालक के मृतक छोटा भाई था

छपरा: सोनपुर के नगर पंचायत के अंग्रेजी बाजार स्थित एक व्यवसाई ने अपने घर के रूम में बंद कर अपनी लाइसेंसी बंदूक से गोली मारकर अपनी जीवन लीला को समाप्त कर ली । मृतक दिग्विजय नारायण सिंह उर्फ गुड्डू सिंह के घरवालों को उस वक्त हाहाकार मच गया जब कमरे में गोली की आवाज सुनते ही घर के लोग उनके कमरे की ओर दौर पड़ा तो देखा कि दरवाजा बंद होने पर परिजनों ने दरवाजा तोड़ा तो देखा कि खून से लथपथ अवस्था मे मृत अवस्था मे पड़ा हुआ है । मृत अवस्था में गुड्डू सिंह के देखकर घर में कोहराम मच गया ।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

इस घटना की सूचना मिलते ही आसपास के लोग एवं सोनपुर के एडिशनल एसपी अंजनी कुमार ,हरिहरनाथ ओपी एसआई रंगलाल तिवारी ने रविवार को अपने दल बल के साथ पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए हाजीपुर भेज दिया वही इस संबंध में पूछे जाने पर आसपास के लोगो ने बताया कि मृतक दिग्विजय नारायण सिंह वकालत की पढ़ाई की थी हालांकि अभी इस पेशे में नहीं थे लेकिन मृतक के बड़े भाई ललित नारायण सिंह उर्फ बसंत सिंह हाजीपुर पासवान चौक पर रोहित हीरो मोटरसाइकिल का एजेंसी है और इनके माछील भाई प्राइवेट स्कूल चलाते हैं जबकि मृतक गुड्डू के गन की दुकान हाजीपुर में है और वे इधर कुछ साल से जमीन की खरीद बिक्री के कार्य करता था ।

मृतक गुड्डू जो बसंत सिंह के एजेंसी में संयुक्त रुप से सहयोग करते थे वहीं आसपास के लोगों ने बताया कि इधर कुछ दिनों से जमीन की कारोबार को लेकर भी काफी परेशान थे । मृतक के एक पुत्र था जो सड़क दुर्घटना में मौत हो गया है । उपस्थित लोगों ने बताया कि दिग्विजय नारायण सिंह अचानक 11 अप्रैल से घर से गायब हो गए थे । इस संबंध में उनकी पत्नी ममता सिंह ने हरिहरनाथ ओपी में प्राथमिकी दर्ज कराई थी जिसमे नखास के एक युवक को आरोपी बनाया था लेकिन 1 सप्ताह के बाद वह सही सलामत अपने घर पर आ गए थे । आसपास के लोगों में यह चर्चा है कि वह रुपए के लेनदेन और कर्ज के बोझ के कारण संभवतः हुए डिप्रेशन के शिकार हो गया होगा जिसके कारण इस तरह के घटना का अंजाम दिया है

वही पुलिस ने रविवार के शाम को शव को पोस्टमार्टम कराकर उसके अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को सौंप दिया । इस घटना के बाद से नगर पंचायत में हाहाकार मच गया जबकि परिवार जन के रो- रो के बुरा हाल है । खबर लिखे जाने तक मृतक के परिजन के तरफ से कोई भी आवेदन थाने में नहीं दी गई है लेकिन पुलिस मामले की तहकीकात करने में जुट गई है ।