बेरोजगारी और प्रवासी संकट क्या नीतीश कुमार के वोट बैंक समीकरण को बिगाड़ सकता है ?

0

परवेज अख्तर/सिवान : बिहार विधानसभा चुनाव में चुनाव प्रचार अपने चरम पर पर है। एनडीए और महागठबंधन समेत सभी छोटे-बड़े दल जोर शोर से मतदाताओं को रिझाने के लिए अपने-अपने तरीके से कोशिश कर रहे हैं। लेकिन क्या इस बार बेरोजगारी को लेकर गुस्सा और प्रवासी संकट क्या नीतीश के वोट बैंक में लगाएगा सेंध?

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
a1
ads
WhatsApp Image 2020-11-09 at 10.34.22 PM
adssssssss
a2

प्रशांत सिंह उन कई लोगों में से एक थे, जिन्होंने इस साल 68-दिवसीय राष्ट्रव्यापी कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान अपनी नौकरी खो दी थी। सिंह जून में मुंबई से बिहार के अपने पैतृक गाँव लौट आए और करीब ढाई महीने तक बिना नौकरी के बिताए। लगभग 2.6 मिलियन प्रवासी कामगारों में से एक जिन्हें अपने राज्य में वापस जाने के लिए मजबूर किया गया क्योंकि महामारी के चलते नौकरी खत्म हो गई।

कुछ महीनों की शुरुआती मुश्किलों के बाद सिंह पटना चले गए और टैक्सी चलाने का काम संभाला। प्रशांत ने बताया कि- मैंने गाँव में रहने को इंज्वाय किया और खेती बाड़ी में अपने परिवार की मदद की। लेकिन, कोई नियमित आय नहीं होने की वजह से मैंने अपने एक पुराने नियोक्ता से संपर्क किया, जिसके साथ मैंने पटना में कुछ समय तक काम किया था। कुमार अत्यंत पिछड़े वर्गों (ईबीसी ECB) से हैं, जो छोटी पिछड़ी जाति के समुदायों का एक संग्रह है, जिन्हें बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने प्रतिद्वंद्वी लालू प्रसाद के यादवों और मुसलमानों के प्रभावशाली आधार के काउंटर के रूप में पाला था।

दरअसल 2005 के बाद से जब नीतीश कुमार सत्ता में आए, तो एक चौथाई वोट बैंक वाले अति पिछड़ा वर्ग (ईबीसी) ने जनता दल यूनाइटेड (जदयू) का समर्थन किया था लेकिन इस बार प्रवासी संकट और बेरोजगारी के मुद्दे पर सरकार के रवैये को लेकर ईसीबी गुस्से में है। वे कई राजनीतिक विकल्पों पर पुनर्विचार कर रहे हैं। इस गुस्से को अब राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(एनडीए) और नौकरियों पर विपक्षी महागठबंधन की ओर से प्रतिस्पर्धा के दावों को लेकर भ्रम की स्थिति में डाल दिया गया है। दरअसल महागठबंधन के साथी राजद ने जहां युवाओं को 10 लाख सरकारी नौकरी देने का वादा किया है वहीं एनडीए के साथी भाजपा ने 19 लाख नौकरियां पैदा करने का वादा किया है।

युवा गुस्से में और वे भ्रमित भी हैं

एशियन डेवलपमेंट रिसर्च इंस्टीट्यूट (एडीआरआई) के सदस्य सचिव सिब्बल गुप्ता ने कहा कि युवा गुस्सा हैं और वे भ्रमित भी हैं। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA), जिनमें से JD (U) भी एक हिस्सा है यह बात अच्छी तरह जानता है।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एमएलसी संजय पासवान ने कहा कि लगभग 75 प्रतिशत, अत्यंत पिछड़ी जातियों से हैं, 20 प्रतिशत एससी/एसटी (अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति) हैं और बमुश्किल 5 प्रतिशत उच्च जाति से हैं। प्रवासियों की जाति प्रोफ़ाइल हमें सूट करती है, भले ही वे थोड़े आज हमारे खिलाफ हैं।

ईबीसी इतिहास: नीतीश कुमार की सोशल इंजीनियरिंग

ईसीबी यानि अति पिछड़ा वर्ग मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सोशल इंजीनियरिंग का सबसे पावरफुल हिस्सा है जिसने लालू प्रसाद और उनकी पत्नी राबड़ी देवी के 15 साल के शासन के बाद 2005 में उन्हें सत्ता दिलाने में अहम भूमिका निभाई। ईबीसी की सूची को सबसे पहले समाजवादी नेता कर्पूरी ठाकुर द्वारा बड़े अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) समूह से बाहर किया गया था और नीतीश कुमार ने 2007 में श्रेणी को जोड़ने के लिए और अधिक ठोस प्रशासनिक उपाय किए। वर्तमान में, सभी ओबीसी समुदायों को चार के अपवाद के साथ रखा गया है। सबसे प्रमुख जातियां- यादव, कुर्मी, कुशवाहा और कोइरी-ईबीसी श्रेणी के हैं और इनमें लगभग 135 जातियां हैं।

लालू प्रसाद यादव से मुकाबले के लिए ईसीबी

नीतीश कुमार जो स्वयं छोटी कुर्मी जाति से हैं उन्होंने प्रतिद्वंद्वी लालू प्रसाद के अधिक दुर्जेय जाति गठबंधन का मुकाबला करने के लिए ईबीसी का निर्माण किया था। लेकिन इस बार, ईबीसी श्रेणी के कई लोगों का कहना है कि लॉकडाउन से जुड़ी आम लोगों की अपेक्षा और 15 वर्षीय थकान की वजह से वे पुनर्विचार कर रहे हैं।औरंगाबाद जिले के ओबरा के एक चाय विक्रेता मोहन कुमार ने कहा – शुरू में हम भी बदलाव के लिए तैयार थे। लेकिन, फिर से आकलन करने के बाद हमारे गांव ने उसे फिर से वापस करने का फैसला किया है। औरंगाबाद के ही एक अन्य चाय-स्टॉल के मालिक ने नाम छापने की शर्त पर बताया कि उनकी भी यही भावना है। कहा- जमीन पर आक्रोश है।

एनडीए आशावादी

उधर NDA को लगता है कि राज्य और केंद्र सरकार की ओर से उठाए गए कदम, प्रधानमंत्री की प्रवासी रोजगार योजना और EBC के साथ नीतीश कुमार के पुराने संबंध वोट बैंक साधने में उनकी मदद करेंगे। नोखा में जद (यू) के चुनाव प्रभारी सुनील रजक ने कहा कि- इस तथ्य से कोई इंकार नहीं है कि प्रवासियों, ईबीसी के बीच प्रारंभिक नाराजगी थी, लेकिन राज्य सरकार द्वारा किए गए कई उपाय से ईबीसी भी खुद को फिर से समूहीकृत कर रहे हैं और वे जेडी (यू) में वापस आ जाएंगे।

वहीं जेडी (यू) के प्रधान महासचिव के सी त्यागी ने कहा कि- यह बिहार का जातिगत ध्रुवीकरण है। जब अन्य जातियों में ध्रुवीकरण होता है तो ईबीसी के बीच भी ध्रुवीकरण होना तय है। समुदाय के लोगों ने महसूस किया है कि कोरोना महामारी और परिणामी प्रवासन एक प्रकृति निर्मित त्रासदी थी और राज्य सरकार ने राहत प्रदान करने के लिए पूरी कोशिश की।

राजद ने ईबीसी के उम्मीदवारों को 25 टिकट दिए

उधर ईसीबी वोटरों को साधने के लिए 144 सीटों पर लड़ रहे राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने ईबीसी के उम्मीदवारों को 25 टिकट दिए हैं। यह हाल के चुनावों में अबतक एक रिकॉर्ड है। राजद के इस कदम को अपने पारंपरिक मुस्लिम-यादव गठबंधन से परे अपने वोट आधार का विस्तार करने के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है। तेजस्वी यादव ने हिंदुस्तान टाइम्स को हालिया साक्षात्कार में कहा कि- “हम ए टू जेड पार्टी हैं और ईबीसी हमेशा राजद के साथ रही है। हमने ईबीसी श्रेणी के 25 उम्मीदवारों को टिकट दिया है।” इसके अलावा, राजद नेता तेजस्वी यादव के दस लाख सरकारी नौकरियों के वादे से समुदाय के कुछ वर्गों तक अपनी पहुंच बनाई है।

इस संबंध में एएन सिन्हा इंस्टीट्यूट फॉर सोशल स्टडीज़ के पूर्व निदेशक डी एम दिवाकर ने कहा कि युवा भी उत्साहित हैं और ईबीसी का मन बदल रहा है। महागठबंधन द्वारा दस लाख नौकरी की घोषणा, कुछ हद तक प्रवासियों पर जीत हासिल की है। नाम न छापने की शर्त पर धानुक समुदाय से संबंधित एक व्यक्ति ने कहा कि वोट को लेकर कई छोटे ईबीसी समुदायों में भ्रम स्पष्ट है। चीजें बहुत अच्छी नहीं हैं। लेकिन विकल्प भी कहां है। हम अभी भी चीजों पर विचार कर रहे हैं। उधर जेडी (यू) ने अपने 115 सीटों के कोटे से 19 ईसीबी उम्मीदवारों को टिकट दिया है।