छपरा: जनता के विश्वास की डोर है डॉक्टर, इसे बनाए रखना हम सबकी जिम्मेदारी: डॉ. अनिल

0
  • डॉक्टर्स डे पर मरीजों का हुआ नि:शुल्क उपचार
  • संजीवनी नर्सिंग होम एवं मेटरनिटी सेंटर में नि:शुल्क चिकित्सा शिविर आयोजित

छपरा: वर्तमान में डॉक्टरी ही एक ऐसा पेशा है, जिस पर लोग विश्वास करते हैं। इसे बनाए रखने की जिम्मेदारी सभी डॉक्टरों पर है। डॉक्टर्स डे स्वयं डॉक्टरों के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है, क्योंकि यह उन्हें अपने चिकित्सकीय प्रैक्टिस को पुनर्जीवित करने का अवसर देता है।उक्त बातें शहर के प्रसिद्ध चिकित्सक व संजीवनी नर्सिंग होम एवं मेटरनिटी सेंटर के संचालक डॉ. अनिल कुमार ने कही। उन्होने कहा कि डॉक्टर जब अपने चिकित्सकीय जीवन की शुरुआत करते हैं तो उनके मन में नैतिकता और जरूरतमंदों की मदद का जज्बा होता है, जिसकी वे कसम भी खाते हैं। इसके बाद कुछ लोग इस विचार से पथभ्रमित होकर अनैतिकता की राह पर चल पड़ते हैं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

डॉक्टर्स डे के दिन डॉक्टरों को यह मौका मिलता है कि वे अपने अंतर्मन में झाँके, अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों को समझें और चिकित्सा को पैसा कमाने का पेशा न बनाकर मानवीय सेवा का पेशा बनाएँ, तभी हमारा यह डॉक्टर्स डे मनाना सही साबित होगा। इस बीच छपरा शहर के श्यामचक स्थित संजीवनी सेवा सदन के मुखिया डॉ अनिल कुमार डॉ संजू प्रसाद डॉ नेहा कुमारी डॉ विशाल कुमार ने डॉक्टर्स डे को स्पेशल तरीके से मनाया।

डॉक्टर अनिल कुमार ने डॉक्टर्स डे के मौके पर संजीवनी में आए सभी मरीजों का निःशुल्क इलाज किया। व जरूरत जरूरत मंद के बीच दवा का भी वितरण किया। उन्होंने बताया कि निःशुल्क जांच के बारे में पहले से कोई एलॉसमेन्ट नहीं किया गया था। जो इस तपती धूप में नर्सिंग होम पर आया उसका ही इलाज किया गया। इस मौके पर डॉक्टर नेहा कुमारी डॉक्टर संजू प्रसाद डॉक्टर विशाल कुमार रिचा कुमारी स्वेता कुमारी, चिंटू कुमार शैलेश यादव, धर्मेंद्र कुमार मौजूद थे।