छपरा: कोरियर कंपनी से लाखों लूटकांड के मैनेजर और कर्मी ही निकले मास्टर माईंड, मैनेजर कर्मी और समेत पाँच गिरफ्तार

0

छपरा: जिले की एकमा थाना क्षेत्र अंतर्गत हंसराजपुर स्थित कोरियर कंपनी के कार्यालय से लूटी हुई रुपये बरामदगी के साथ ही लूट कांड में शामिल पांच अपराधियों को गिरफ्तार किया है। इस लूट कांड का उद्भेदन करते हुए सारण पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने बताया कि कोरियर कंपनी के मैनेजर एवं कर्मी के द्वारा इस लूट की साजिश रची गई थी। लूट के बाद मैनेजर द्वारा एकमा थाने में कांड संख्या-177/21 दर्ज कराते हुए लूट की वास्तविक राशि ₹684000 से लगभग 11 लख रुपए अधिक गमन करने के उद्देश्य बताया गया था। इस कांड में लूटी गई राशि 451000 रुपये बरामदगी के साथ ही लूट कांड में शामिल पांच अपराधियों को लूट में प्रयुक्त मोटरसाइकिल, मोबाइल एवं अन्य सामानों के साथ गिरफ्तार किया गया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

बताते चलें कि गत 3 मई की रात्रि में हंसराजपुर स्थित कोरियर कार्यालय से 17 लाख 56 हजार 299 की लूट होने का मामला एकमा थाना में दर्ज कराया गया था। जिसके बाद कांड के उद्भेदन के लिए सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी के नेतृत्व में एसआईटी टीम का गठन कर कांड का अनुसंधान शुरू किया गया। छापामारी तथा तकनीकी अनुसंधान की मदद एवं कार्यालय में लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगालने से एक अपराधी अभिषेक कुमार साकिन गम्हरिया थाना पंचरुखी जिला सिवान को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार अपराधी कर्मी अभिषेक कुमार द्वारा इस घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार करते हुए उक्त घटना में संलिप्त सभी अपराध कर्मियों के संदर्भ में बताया गया।

पूछताछ के क्रम में उसने कोरियर मैनेजर सुजन कुमार तथा एक अन्य कर्मी सूरज कुमार के संलिप्तता कि बात स्वीकारी तथा एक षड्यंत्र के तहत इस घटना को अंजाम देने की बात बताई। घटना को अंजाम देने के बाद यह लोग एकमा थाना अंतर्गत भूआलीगाछी में एकत्रीत हुए जहां कुछ पैसों का बंटवारा हुआ तथा बाकी पैसे बाद में बटवारा करने की बात कह कर सभी निकल गए। इनके निशानदेही पर लूट में शामिल सूरज कुमार, कृष्णा सिंह, उमेश महतो को गिरफ्तार किया गया। उपरोक्त पकड़े गए अपराधकर्मी इस लूट में अपनी संलिप्तता स्वीकार किये। अपराध कर्मी उमेश महतो की निशानदेही पर इस लूट के रुपये तथा घटना के समय पहने हुए कपड़े एवं घटना में प्रयुक्त मोबाइल एवं मोटरसाइकिल को भी बरामद किया गया। सूरज कुमार की निशानदेही पर मैनेजर के हिस्से की रुपये भी बरामद किया गया। साथ ही यह भी बात प्रकाश में आई कि इस लूट में मात्र 684000 की लूट मैनेजर एवं एक अन्य कर्मी के सहयोग से की गई थी। जबकि से मैनेजर ने गमन करने के उद्देश से लगभग एक 11 लाख रुपए अधिक राशि बढ़ाकर 1756299 रुपए बता कर केस दर्ज कराया था।

इस प्रकार कुल राशि 684000 में से 451000 की बरामदगी हो चुकी है। गिरफ्तार अपराध कर्मियों पर लूट डकैती और अवैध अग्नियास्त्र के दर्जनों से अधिक मामले दर्ज हैं। जिनमें वे लोग कई बार जेल भी जा चुके हैं। उपरोक्त अपराध कर्मियों का अपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है साथ ही इस घटना में संलिप्त अन्य अपराधियों की गिरफ्तारी और लूट की गई शेष राशि की बरामदगी हेतु सघन छापेमारी किया जा रहा है। सारण पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने कहा कि सारण पुलिस के लिए यह ऐतिहासिक दिन है, जहां एक साथ दो बड़ी लूट कांड का पुलिस उद्भेदन करने में सफल रही। उन्होंने कांड के उद्भेदन में लगे पुलिस टीम में शामिल सभी पुलिस पदाधिकारियों एवं कर्मियों के कार्य की प्रशंसनीय की तथा उन्हें बेहतर कार्य के लिए पुरस्कृत करने की बात कही।

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here