छपरा: इसुआपुर थानाध्यक्ष संजय तिवारी का हत्यारा निकला शिक्षिका प्रमिला का हत्यारा

0

छपरा: सारण पुलिस ने विगत 5 अप्रैल को परसा थाना अंतर्गत बनकेरवा चंवर में शिक्षिका प्रमिला कुमारी की हत्या मामले का उद्भेदन कर दिया है. इसुआपुर थाना अध्यक्ष संजय तिवारी का हत्यारा ही उक्त शिक्षिका का हत्यारा निकला है. उसके द्वारा अपने दो अन्य साथियों की मदद से शिक्षिका प्रमिला की हत्या गई थी. बताते चलें कि 5 अप्रैल की अल सुबह परसा थाना अंतर्गत बनकेरवा चंवर में स्थानीय निवासी विनोद राय की पुत्री प्रमिला कुमारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. अपराधियों ने उसकी हत्या उस समय की जब वह ट्यूशन पढ़ाने के लिए सुबह में घर से निकली थी. इस साजिश को उसी गांव के उपेंद्र राय के द्वारा रची गई थी. जो कि पूर्व में प्रमिला को पढ़ाया करता था. इस दौरान उसके द्वारा इसे लगातार परेशान किया जा रहा था.

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

जिसको लेकर प्रमिला के द्वारा उसके खिलाफ स्थानीय थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी. जिसको लेकर वह अक्सर प्रमिला के ऊपर उस केस को उठाने के लिए दबाव बना रहा था. जबकि प्रमिला अपने निर्णय पर अडिग थी. जिसको लेकर उपेंद्र राय अपने जीजा सचिन राय की मदद से एक योजना बनाई और उस प्लानिंग के तहत तीन अपराधियों को हायर कर उसकी हत्या करवा दी. इस मामले में प्रेस वार्ता के दौरान एसपी संतोष कुमार ने बताया कि पुलिस के द्वारा उस मामले का उद्भेदन कर दिया गया है. उक्त मामले में हथियार के साथ तीन कुख्यात अपराधी परसा थाना क्षेत्र के जोगनी गांव निवासी विजय सिंह, दरियापुर थाना क्षेत्र के धुना गांव निवासी राजू नट एवं दरियापुर थाना क्षेत्र के बनवारी पुर गांव निवासी लड्डू राय को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है. उनकी निशानदेही पर पुलिस ने अब सुचिंद्र राय को गिरफ्तार किया है. जबकि उसका साला उपेंद्र राय फरार है. इस मामले में विस्तृत जानकारी देते हुए एसपी ने बताया कि विजय सिंह इसुआपुर थाना के तत्कालीन थानाध्यक्ष संजय तिवारी की हत्या कांड का आरोप पत्र अभियुक्त है.

उन्होंने बताया कि उपेंद्र राय के द्वारा शातिराना अंदाज में इस हत्या को अंजाम तक पहुंचाया गया था. हत्या की पूरी प्लानिंग के बाद वह मुजफ्फरपुर में एटीएम से पैसा निकालते हुए अपना फोटो खींचकर उसे सबूत के तौर पर पेश कर रहा था. जबकि हत्यारों की गिरफ्तारी और उसके जीजा की गिरफ्तारी के बाद इस मामले का उद्भेदन कर दिया गया है. अब शीघ्र ही उपेंद्र राय को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचाया जाएगा.