छपरा: टेस्ट-ट्रीट, ट्रैक, टीकाकरण और कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने की रणनीति पर कार्य करने का निर्देश

0
  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया निर्देश
  • दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई है
  • किसी भी तरह की लापरवाही की कोई गुंजाइश नहीं

छपरा: जिले में कोरोना की तीसरी लहर की संभावित आशंकाओं के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने पत्र लिख कर 5टी- के फॉर्मूले पर जोर देने को कहा है। पत्र में लिखा है कि टेस्ट, ट्रीट, ट्रैक, टीकाकरण और कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने की रणनीति पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता को दोहराया क्योंकि राज्य व जिले में प्रतिबंधों में छूट दिये गये हैं । पर्यटन स्थलों एवं बाजारों में बेपरवाह उमड़ती भीड़ पर केंद्र सरकार ने सख्त रुख अपनाया है। भीड़ वाली जगहों पर अंकुश लगाने और कोरोना प्रोटोकॉल को लागू कराने का निर्देश दिया गया है। सार्वजनिक वाहनों में कोरोना से बचाव के आचरण का पालन नहीं किया जा रहा है। शारीरिक दूरी के नियमों का उल्लंघन कर बाजारों में भीड़ उमड़ रही है। इसको लेकर जिला प्रशासन के द्वारा सख्ती बरतने का निर्देश दिया गया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

अभी खत्म नहीं हुई है दूसरी लहर, लापरवाही पड़ेगी भारी

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने पत्र जारी कर कहा है कि दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई है और किसी भी तरह की लापरवाही की कोई गुंजाइश नहीं है। इसलिए लोग कोरोना से बचाव के नियमों का जरूर पालन करें। संक्रमण के मामलों में कमी और सक्रिय मामलों में गिरावट के बाद विभिन्नि राज्यों में धीरे-धीरे आर्थिक गतिविधियों को खोला जा रहा है। ऐसा करते वक्त विशेष सावधानी बरते जाने की जरूरत है। किसी भी संस्थान, परिसर, बाजार या इस तरह के स्थलों पर कोरोना प्रोटोकाल का उल्लंघन होता है तो वहां दोबारा पाबंदियां लगाई जा सकती हैं।

कोरोना की जांच में तेजी लाने का निर्देश

जिले में कोविड जांच के लिए सैँपल कलेक्शन किया जा रहा है। राज्य स्वास्थ्य समिति के द्वारा जारी निर्देश के अनुसार गांव स्तर पर कोविड की जांच की जा रही है। कैंप लगाकर सैंपल संग्रह (कलेक्शन) किया जा रहा है। इसके अलावा प्रत्येक स्वास्थ्य केंद्र पर नि:शुल्क कोविड जांच की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। बस स्टैंड व रेलवे स्टेशनो पर भी यात्रियों की कोविड जांच की जा रही है।

अच्छी क्वालिटी का मस्क उपयोग करें

सिविल सर्जन डॉ. जेपी सुकुमार ने कहा कि सूती कपड़े की अच्छी क्वालिटी के मास्क इस्तेमाल करने में कोई हर्ज नहीं है। इसे आप धोकर-सुखाकर पुन: इस्तेमाल कर सकते हैं। बेहतर होगा कि एक मास्क एक दिन इस्तेमाल करें, फिर उसे धो दें। जब आप भीड़भाड़ वाले स्थान पर जाएं तो बचाव आपके हाथ में है। कोरोना महामारी से बचाव के लिए मास्क का सही इस्तेमाल बहुत जरूरी है। मास्क को ठोड़ी, गर्दन पर नहीं लटकाना चाहिए। मास्क ढीला न हो, कान में लास्टिक फंसाएं तो यह पूरी तरह टाइट रहे। ठोड़ी से लेकर नाक तक को कवर करते हुए ही मास्क पहनें। डबल मास्क पहनते समय ध्यान रखें कि श्वास लेने में ज्यादा तकलीफ तो नहीं हो रही है।सार्वजनिक स्थान पर दो गज की शारीरिक दूरी का पालन करना भी अनिवार्य है। फील्ड में हैं तो हाथों को सैनिटाइज करते रहें। बाहर से घर पहुंचें तो सबसे पहले हाथ-मुंह जरूर धोएं।