गोस्वामी समाज के हितैषी हैं मुख्यमंत्री: महंथ

0
Siwan Online banner

गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते महंथ विजय शंकर गिरि

परवेज अख्तर/सिवान :- गोस्वामी समाज की सामाजिक स्थिति का अध्ययन एवं समाज को जागरूक करने हेतु गोस्वामी जागरण मंच द्वारा शनिवार को बिहार भ्रमण यात्रा की शुरुआत की गई. मंच के संरक्षक सह पटन देवी मंदिर के महंथ विजय शंकर गिरि ने शहर के गांधी मैदान स्थित गांधी जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण के साथ यात्रा का शुभारंभ किया. इस इस दौरान उन्होंने बताया कि आजादी के सात दशक बाद भी गोस्वामी समाज राजनीतिक रूप से उपेक्षित है. कहा गया है कि जो समाज राजनीतिक हकमारी का शिकार हो जाता है, उसका अस्तित्व खतरे में आ जाता है.

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

यह दुर्भाग्य ही है कि हमारे समाज हित में आवाज उठाने वाला सदन में कोई नहीं है. आगामी विधानसभा चुनाव में गोस्वामी समाज को संख्या के अनुपात में उम्मीदवारी का मौका देने की हम आशा करते हैं. हमारे समाज से कम संख्या वाले कई समाज को राजनीतिक भागीदारी मिल चुकी है. आखिर कबतक हम उपेक्षा के शिकार होते रहेंगे? इन्होंने सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि गोस्वामी समाज को आरक्षण श्रेणी में डालकर उन्होंने बड़ा काम किया है. उन्होंने दशकों से लंबित हमारी मांग पूरी की है.

गोस्वामी समाज बिहार अपने न्यायप्रिय मुख्यमंत्री से अपनी राजनीतिक भागीदारी की भी आशा करता है. हमें विश्वास है कि जिस प्रकार हमारी आरक्षण की मांग उन्होंने पूरी की है, वैसे ही इस मांग को भी पूरा करेंगे. गोस्वामी समाज के सच्चे हितैषी हैं मुख्यमंत्री. वहीं गोस्वामी जागरण मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ पीएस दयाल यति ने कहा कि गोस्वामी समाज को जागृत करने के लिए बिहार भ्रमण यात्रा का आयोजन किया गया है. बिहार भ्रमण के दौरान अपने समाज के लोगों की समस्याएं एवं विशेष स्थिति की भी जानकारी एकत्र की जायेंगी.

सीवान के गांधी मैदान से शुरू होकर चंपारण होते हुए पूरे बिहार भ्रमण का कार्यक्रम एक माह में पूरा कर लिया जायेगा. मौके पर गोस्वामी जागरण मंच के प्रदेश अध्यक्ष श्याम गिरि, राष्ट्रीय सचिव अवध नरेश गिरि, प्रदेश प्रवक्ता बबन गिरि, राजवल्लभ भारती, सारण जिलाध्यक्ष शैलेश गिरि, नवीन पुरी, महिला नेत्री पूनम गिरि, विधि सलाहकार अजित गिरि एवं रामकिशोर गिरि मौजूद रहे.