होली एवं शब-ए-बरात को लेकर सिविल सर्जन ने की दंडाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति

0
  • होली के मद्देनजर स्वास्थ्य संस्थानों में विशेष तैयारी रखने का निर्देश
  • रोस्टर के अनुसार चिकित्सक एवं पैरामेडिकल स्टाफ रहेंगे ड्यूटी पर तैनात

छपरा: होली एवं शब-ए-बारात के मद्देनजर सारण के सिविल सर्जन डॉ जनार्दन प्रसाद सुकुमार ने सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों एवं स्वास्थ्य प्रबंधकों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया है। सिविल सर्जन ने बताया कि जिला पदाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक के संयुक्त आदेश के अनुसार 28 मार्च को शब-ए-बरात एवं 29 मार्च को होली मनाई जाएगी। इसके मद्देनजर संभावित होने वाली दुर्घटनाओं के परिपेक्ष में उपाधीक्षक सदर अस्पताल छपरा एवं सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को आदेश दिया है कि अपने-अपने संस्थान में रोस्टर के अनुसार चिकित्सक, पारा मेडिकल स्टाफ, स्ट्रेचर दावा इत्यादि की व्यवस्था रखना सुनिश्चित करेंगे। जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, रेफरल अस्पताल, अनुमंडलीय अस्पताल एवं सदर अस्पताल में अनवरत चिकित्सा सुविधा एवं एंबुलेंस की व्यवस्था सुनिश्चित करने का सिविल सर्जन ने निर्देश दिया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

चिकित्सा कर्मियों को दंडाधिकारी के रूप में किया गया प्रतिनियुक्त

सिविल सर्जन डॉ जनार्दन प्रसाद सुकुमार ने होली एवं शब ए बरात के मद्देनजर करीब एक दर्जन चिकित्सा कर्मियों को दंडाधिकारी के रूप में प्रतिनियुक्त किया है। सिविल सर्जन के द्वारा जाहिर अहमद, स्वास्थ्य प्रशिक्षक माझी को माझी उत्तर टोला, सिकंदर चौधरी, स्वास्थ्य परीक्षक रिविलगंज को नयका बड़का बैजूटोला, पृथ्वीनाथ गुप्ता सदर प्रखंड को राजेंद्र सरोवर मोड़, अशोक कुमार स्वास्थ्य प्रशिक्षक बनियापुर को गोपालपुर, वेद प्रकाश पाल स्वास्थ्य प्रशिक्षक परसा को गौरी गांव, सुरेंद्र प्रसाद सिंह स्वास्थ्य प्रशिक्षक दरियापुर को मटिहानी, रविंद्र कुमार स्वास्थ्य प्रशिक्षक दरियापुर को पोझी, मनोज कुमार स्वास्थ्य प्रशिक्षक मढ़ौरा को नारायणपुर, प्रदीप कुमार स्वास्थ्य प्रशिक्षक मढौरा को मझौलिया पक्की सड़क, अनिल कुमार स्वास्थ्य प्रशिक्षक तरैया को सराय बसंतपुर, विनोद कुमार कर्ण स्वास्थ्य प्रशिक्षक तरैया को पैगा में दंडाधिकारी के रूप में प्रतिनियुक्त किया है। सभी प्रतिनियुक्त चिकित्सा कर्मियों को विरमित करने के लिए प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को सिविल सर्जन ने निर्देश दिया है।