CM नीतीश कुमार का जनता दरबार, ऑन द स्पॉट हुआ फैसला, लगी अफसरों की क्लास

0

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार को जनता के दरबार में हाजिर हुए. अगस्त महीने में मुख्यमंत्री ने लगातार तीन सोमवार को जनता के दरबार में शामिल होकर लोगों की शिकायतें सुनी और अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए. मुख्यमंत्री ने तीसरे सोमवार को परिवहन, खाद्य आपूर्ति,समाज कल्याण,कृषि,नगर विकास,लघु सिचाई,पंचायती राज समेत कई अन्य विभागों की समस्या को सुना और निपटारे का प्रयास किया. सीएम नीतीश ने कई मामलों में दोषी पर सख्त कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया. भकेभुआ नगर परिषद में करोड़ों का घोटाला और जांच रिपोर्ट को नगर विकास विभाग में दबाने की शिकायत पर मुख्यमंत्री हरकत में आए.सीएम नीतीश कुमार ने शिकायतकर्ता को नगर विकास के प्रधान सचिव के पास भेजा और कहा कि जरूरत पड़ी तो निगरानी से जांच कराएंगे. सबसे अधिक मामले सीएम नीतीश के ड्रीम प्रोजक्ट नल-जल योजना और नाली-गली पक्कीरण को लेकर आया.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

शिकायतों पर सीएम नीतीश ने लिया फौरन एक्शन

सीएम नीतीश के जनता दरबार में जहानाबाद से आए एक शख्स ने शिकायत किया कि परिवहन विभाग 8 महीनों से गाड़ी का निबंधन नहीं कर रहा. वे दफ्तर दौड़ते-दौड़ते थक चुके हैं लेकिन कोई सुन रही रहा. इस गंभीर शिकायत पर मुख्यमंत्री ने तुरंत संज्ञान लिया और परिवहन सचिव को तलब किया. शिकातकर्ता ने सीएम नीतीश से कहा कि हमने उत्पाद नीलामी में गाड़ी खरीदी, लेकिन उसका निबंधन नहीं हो रहा. गाड़ी के निबंधन को लेकर विभाग का चक्कर लगा रहे है. निबंधन फीस भी जमा करा दिया फिर भी गाड़ी का निबंधन नहीं किया जा रहा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार यह शिकायत सुनने के बाद हरकत में आए और कहा कि यह तो बहुत गड़बड़ बात है. तुंरत अधिकारियों से कहा कि परिवहन सचिव को बुलाओ. इसके बाद परिवहन विभाग के सचिव संजय अग्रवाल सीएम के सामने आए. मुख्यमंत्री ने कहा कि ये जहानाबाद ये आये हैं. इन्होंने उत्पाद नीलामी के तहत गाड़ी खरीदी है, लेकिन निबंधन नहीं हो रहा. इस पर परिवहन विभाग के सचिव संजय अग्रवाल ने कहा कि बिना नंबर की गाड़ी है इसलिए निबंधन नहीं हो रहा. कोर्ट से रोक है. परिवहन सचिव का जवाब सुनने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जब नीलामी में गाड़ी खरीदी है तो फिर निबंधन क्यों नहीं हो रहा ? अगर निबंधन नहीं होगा तो फिर इनका पैसा लौटाइए. मुख्यमंत्री ने अपने प्रधान सचिव को कहा कि इस तरह के मामले को अलग से देखिए.

आवास योजना में धांधली की शिकायत

मुजफ्फरपुर के व्यक्ति ने आवास योजना में भारी धांधली की शिकायत की. साथ ही यह भी कहा कि जनता दरबार में शिकायत के लिए आवेदन दिए तो आवास सहायक ने धमकी दी. शिकायत सुनने के बाद सीएम नीतीश तुरंत हरकत में आए और ग्रामीण विकास विभाग के प्रधान सचिव को फोन किया. मुख्यमंत्री ने कहा कि आप इसे देखिए, कोई पैसा मांग रहा है. इसने मुख्यमंत्री के दरबार में शिकायत किया तो वो धमकी देने घर पहुंच गया. इस मामले को देखिए और तुरंत कार्रवाई करिए. सुपौल से आए शख्स ने सीएम नीतीश से 325 मीटर सड़क नहीं बनने का शिकायत दर्ज किया. इस पर मुख्यमंत्री ने नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव को फोन कर मामले को तत्काल देखने को कहा. वहीं सुपौल के ही एक दूसरे शख्स ने बिजली तार हटाने को लेकर सीएम से गुहार लगाई. इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उर्जा विभाग के मंत्री बिजेन्द्र यादव जो आपके सुपौल के हीं हैं उनसे नहीं मिले थे? इस पर उस शख्स ने कहा कि नहीं उसे नहीं मिले थे. सीएम ने उर्जा विभाग के सचिव को समस्या समाधान का निर्देश दिया. भभुआ नगर परिषद में घोटाला पर मुख्यमंत्री ने नगर विकास के प्रधान सचिव आनंद किशोर को फोन कर मामले को देखने को कहा. शिकातकर्ता ने निगरानी विभाग से जांच कराने की मांग की थी. इस मुख्यमंत्री ने कहा कि तुंरत कार्रवाई होगी. जरूरत पड़ी तो निगरानी जांच भी होगी.