गंगा किनारे बसे गांव में घुसा मगरमच्छ, युवाओं ने बांध कर कमरे में किया बंद, फिर

0

पटना: बिहार की राजधानी पटना से सटे मोकामा के हाथीदह थाना क्षेत्र में उस वक्त अफरा तफरी मच गई, जब लोगों ने मगरमच्छ को गांव में प्रवेश करते देखा. थाना क्षेत्र के रामटोला शिवमन्दिर गंगा घाट पर शनिवार की देर शाम ग्रामीणों ने एक मगरमच्छ को गांव की ओर आते देखा. ऐसे में युवाओं की एक टीम ने उसे कड़ी मशक्कत के बाद पकड़ लिया और लाकर गांव के एक सरकारी स्कूल के कमरे में बंद कर दिया. इसके बाद उन्होंने हाथीदह थानाध्यक्ष शोएब अख्तर को घटना की सूचना दी.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

वन विभाग की टीम ने किया रेस्क्यू

सूचना मिलते ही थानाध्यक्ष द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए मगरमच्छ को कब्जे में ले लिया और वन विभाग की टीम को सूचित कर बुलाया. वहीं, मगरमच्छ को सकुशल वन विभाग की टीम के हवाले सौंप दिया गया. इधर, गंगा नदी से मगरमच्छ निकलने के बाद गांव में दहशत का माहौल बना हुआ है.

छठ को लेकर बढ़ी लोगों की चिंता

दरअसल, रामटोला गांव गंगा नदी के किनारे बसा हुआ है. वहीं, मगरमच्छ गंगा तट से गांव की ओर जाने वाले रास्ते में ही पाया गया, जिसे युवकों ने राह चलने के दौरान देख लिया. ग्रामीण चंदन महतो ने बताया कि छह-सात युवकों ने जान जोखिम में डाल कर मगरमच्छ को रस्से से बांध दिया और उसे स्कूल में बंद कर दिया. ग्रामीणों के मुताबिक आज के पहले गंगा नदी या उसके किनारे कभी भी मगरमच्छ नहीं देखा गया है.

ग्रामीणों ने बताया कि छठ पूजा भी नजदीक है. इस कारण अब हमलोग सतर्कता बरतने के लिए अभियान चलाएंगे, ताकि कोई दुर्घटना नहीं हो. वहीं, हाथीदह थानाध्यक्ष शोएब अख्तर ने बताया कि हमें जैसे ही सूचना मिली, हम तुरंत पहुंचे. गांव के युवाओं ने बहादुरी दिखाते हुए मगरमच्छ को पकड़कर स्कूल के कमरे में बन्द कर दिया था. वन विभाग ने सकुशल पूरी तरह से स्वस्थ मगरमच्छ को यहां से ले गए हैं.

बताते चलें कि बीते शनिवार को खुसरूपुर नगर पंचायत के वार्ड संख्या दो स्थित रेलवे काॅलनी के एक खंदे में अद्भुत मछली मिली थी. मछली को देखने के लिए लोगों की भीड़ लगी हुई थी.