दबंगई: सिवान के मुफस्सिल थाने में तैनात चौकीदार ने की कब्रिस्तान में घुसकर फायरिंग

0
  • दो लोगों की हुई जबर्दस्त पिटाई
  • मौके पर मची अफरा-तफरी
  • सूचना के बाद भी नहीं पहुंची मुफस्सिल थाने की पुलिस
  • दोनों इलाज हेतु सिवान सदर अस्पताल में भर्ती

परवेज अख्तर/सिवान:
जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के मोहिद्दीनपुर गांव स्थित कब्रिस्तान में रविवार की देर रात उस समय अफरा-तफरी मच गई कि जब शब-ए-बारात के मौके पर अपने पूर्वजों के कब्र पर फातेया पढ़ने गए दो लोगों को मुफस्सिल थाने में कार्यरत चौकीदार मोहम्मद क्यामुद्दीन अपने सहयोगियों संग मिलकर कब्रिस्तान के अंदर घुसकर दो लोगों को जबरदस्त तरीके से पिटाई कर दी। साथ ही कब्रिस्तान परिसर में दो राउंड फायरिंग भी की गई। जिससे अफरा तफरी का माहौल देख अधिकांश लोग कब्रिस्तान परिसर से भाग खड़े हुए। बाद में दोनों घायलों को ग्रामीणों ने आनन-फानन में इलाज हेतु सिवान सदर अस्पताल में भर्ती कराया।जहां ड्यूटी पर तैनात चिकित्सा पदाधिकारी डॉ हिमांशु शुक्ला की देखरेख में इलाज जारी किया गया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

घायलों में क्रमशःहफिजुल्लाह अंसारी व शहंशाह अंसारी शामिल हैं। जो मोहिद्दीनपुर गांव निवासी गुलाम हुसैन अंसारी के पुत्र बताए जाते हैं। इस घटना में अन्य लोगों की भी घायल होने की सुचना घटना स्थल से प्राप्त हो रही है। घायल हाफिजुल्लाह अंसारी ने बताया कि शब-ए-बारात की रात हम सभी लोग गांव स्थित कब्रिस्तान में फातेया पढ़ने के लिए अपने पूर्वजों की कब्र पर गए हुए थे की इसी बीच एक सोची समझी साजिश के तहत मुफस्सिल थाने के सिरिस्ता कक्ष में कार्यरत चौकीदार मोहम्मद क्यामुद्दीन अपने सहयोगियों संग आ धमके और भद्दी भद्दी गाली गलौज करते हुए अपने हाथों में लिए पारंपरिक हथियारों से अचानक हम दोनों भाइयों पर ताबड़तोड़ हमला कर दिए। जिससे हम दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। इस घटना में अन्य लोगों की भी पिटाई की गयी। जो भय के कारण घटना स्थल से अपनी जान बचा कर भागने कामयाब रहे।

उन्होंने बताया कि इस घटना की सूचना स्थानीय थाने को दी गई। परंतु थाने के सिरिस्ता कक्ष में कार्यरत मोहम्मद क्यामुद्दीन के प्रभाव में आकर स्थानीय पुलिस हम लोगों की बातों की अनदेखा कर दी। खबर प्रेषण तक दोनों घायलों का इलाज सिवान सदर अस्पताल में जारी था। जहां घायलों में हाफिजुल्लाह अंसारी की हालत गंभीर बताई जा रही है। उधर उक्त घटित घटना को लेकर गांव के दो गुटों में तनाव व्याप्त है। इसके बावजूद भी स्थानीय पुलिस निष्क्रिय बरत रही है। अगर जिले के वरीय पुलिस पदाधिकारी इस मामले में संज्ञान नहीं ली तो कोई बड़ी घटना घटित हो सकती है।