पुलिस बनकर आए डकैतों ने बंधक बना सात लाख लूटे

0
chor

परवेज अख्तर/सिवान : जिले के गुठनी थाना क्षेत्र के कोहरवलिया गांव के डीलर रामसकल नाथ तिवारी के घर में गुरुवार की रात्रि करीब दो दर्जन हथियार बंद डकैतों ने खुद को पुलिस व वरीय अधिकारी बताकर परिजनों को बंधक बना सात लाख से ज्यादा की संपत्ति लूट ली।डकैती का विरोध करने पर परिवार के सदस्यों को जमकर पीटा। पिटाई में एक महिला का हाथ टूट गया। महिलाओं की पिटाई देख घर की एक युवती छत से नीचे कूद गई और बाहर जाकर गांव में शोर मचाया। इसकी भनक लगने पर डकैत भागने लगे। उनका पीछा कर रहे ग्रामीणों पर डकैतों ने फायरिंग की। फायरिंग के दौरान छर्रा के बारूद से दो लोग घायल हो गए। इधर हो हल्ला सुनकर आए आसपास के लोगों ने सभी घायलों को इलाज के लिए स्थानीय पीएचसी में भर्ती कराया, जहां से कुछ घायलों को सदर अस्पताल भेज दिया गया। शुक्रवार की सुबह सूचना पर पहुंची पुलिस ने डॉग स्क्वायड की टीम से डकैतों की गिरफ्तारी के लिए जांच की, लेकिन पुलिस को कुछ खास सुराग हाथ नहीं लगा। मामले में पुलिस ने पीड़ित के घर के सामने पिछले कुछ दिनों से रह रहे डेढ़ दर्जन नट को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी थी। सूचना पर पहुंचे एएसपी कांतेश मिश्रा ने भी मामले में जांच की और घायलों का हाल जाना। घटना के संबंध में बताया जाता है कि गुरुवार की रात्रि करीब 9.45 बजे कोहरवलिया गांव के पूर्वी किनारे बसे जन वितरण प्रणाली के दुकानदार रामसकल नाथ तिवारी के घर करीब दो दर्जन डकैतों ने धावा बोल दिया। बरामदे में सोए गृहस्वामी को हथियार के बल पर बंधक बनाया और विभाग के अधिकारी और थाना के बड़ा अधिकार बता घर का मुख्य दरवाजा खोलवाया।police dakait उसके बाद घर में प्रवेश कर महिलाओं से मारपीट कर जेवर उतरवा लिया। इसका विरोध करने पर पिटाई भी की। डकैतों ने करीब एक घंटे तक उत्पात मचाते रहे और परिजनों के साथ मारपीट कर लूटपाट करते रहे। डकैतों की पिटाई से घर की महिला सदस्य कुंती देवी का हाथ टूट गया। पारिवारिक सदस्यों से मिली जानकारी के अनुसार करीब 7 लाख तक के जेवर व नकदी सामानों की लूट हुई है। इस दौरान घर की एक लड़की गोल्डी कुमारी छत के सहारे नीचे कूद गई और गांव में जाकर शोर मचाना शुरू किया। इस दौरान शोर शराब सुन काफी संख्या में ग्रामीण एकत्रित होने लगे। अपने को पकड़े जाने के डर से डकैत फायरिंग करते हुए भाग निकले। डकैतों की गोली से ग्रामीण हरेकृष्ण ओझा के पुत्र रजनीश ओझा को कंधे और पेट मे छर्रा लगा, जिसे वह घायल हो गया। वहीं ऋषिदेव कानू को पैर में छर्रा लगा। इसके अलावा राम सकल नाथ तिवारी, राजन तिवारी, शशिभूषण तिवारी,रोहित नाथ तिवारी गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना के बाद एएसपी कांतेश मिश्रा, मैरवा व दरौली पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे और जांच पड़ताल शुरू कर दी। एएसपी के नेतृत्व में गुठनी के आदिखोर टोला तथा दरौली के टड़वा में छापेमारी कर डेढ़ दर्जन नट लोगों को गिरफ्तार कर पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया।