सीवान शहर में दिनदहाड़े कुरियर कार्यालय के कर्मियों को बंधक बनाकर दिनदहाड़े एक लाख की लूट

0

परवेज़ अख्तर/सिवान:
नगर थाना क्षेत्र के फतेहपुर बाईपास रोड स्थित एक कुरियर कंपनी के कार्यालय में शुक्रवार को दिनदहाड़े पांच की संख्या में हथियार बंद अपराधियों ने लूट कर्मियों को बंधक बनाकर लूट की घटना को अंजाम दिया। अपराधियों ने हथियार का भय दिखाकर मैनेजर व कर्मियों से लगभग एक लाख रुपये लूट लिए। अपराधियों ने लूट के बाद कुरियर कार्यालय के दरवाजे को बाहर से गेट बंद कर फरार हो गए। सूचना मिलने पर पहुंचे नगर थाना इंस्पेक्टर जयप्रकाश पंडित, महादेवा ओपी में तैनात एसआइ तनवीर आलम सहित गश्त दल जांच के बाद अपराधियों की गिरफ्तारी में जुट गए।मामले में कुरियर कंपनी के मैनेजर ओम प्रकाश सिंह ने बताया कि शुक्रवार की दोपहर ऑफिस में पांच-छह कर्मी मौजूद थे। इसी बीच एक एक युवक आया और अपने पार्सल के बारे में पूछताछ की। जब मैंने ट्रैकिग नंबर की मांग की तो उसने दूसरे मोबाइल में नंबर होने की बात कही और बाहर चला गया। थोड़ी देर बाद उसके साथ चार की संख्या में युवक आए। अभी हमलोग कुछ समझ पाते तब तक सभी ने हथियार निकाल लिया और सभी को बंधक बना कर कार्यालय व कर्मियों के पास रखे रुपये लेकर मेन गेट के रास्ते दरवाजा बंद कर फरार हो गए। प्रबंधक के अनुसार अपराधियों ने करीब एक लाख रुपये की लूट की है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

चार अपराधी अंदर थे, एक बाहर कर रहा था निगरानी

कुरियर प्रबंधक ओम प्रकाश ने बताया कि घटना में शामिल पांच अपराधियों में चार अपराधी दफ्तर में घुसे और एक बाहर मेन गेट पर खड़ा था। प्रबंधक के अनुसार अपराधियों की उम्र 25 से 30 साल की थी। सभी पिस्टल लेकर अंदर प्रवेश किए थे।

सभी नकाबपोश थे अपराधी

लूट की घटना में शामिल अपराधियों ने मास्क लगा रखा था। ताकि उनकी पहचान उजागर नहीं हो। वहीं अलसुबह हुई लूट की घटना में भी अपराधियों ने मास्क लगाया था ताकि उनके चेहरे की पहचान नहीं हो।

एसआइटी टीम गठित

एक ही दिन में लूट की दो बड़ी घटनाएं होने के बाद पुलिस के हाथ पांव फुलने लगे हैं। अलसुबह जहां अपराधियों ने एक छात्र को गोली मार दी वहीं दोपहर में अपराधियों ने एक कुरियर कंपनी के दफ्तर में दिनदहाड़े लूट की घटना को अंजाम दिया। ऐसे में अपनी कलई छुपाने के लिए पुलिस तरह तरह के बचाव करते हुए नजर आई। वहीं एसपी ने फिलहाल दोनों मामलों के उद्भेदन के लिए एसआइटी गठित कर दी है।

बता दें कि नगर थाना क्षेत्र में शुक्रवार को 12 घंटे के अंदर लूट की दूसरी घटना है। सुबह हुई छात्र से लूट के मामले में पुलिस के हाथ अभी अब तक खाली ही थे कि दोपहर में अपराधियों ने लूट की घटना को अंजाम देकर पुलिस को ठंड में पसीने छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया।

लूट की घटना के बाद आराम से निकल जाते हैं अपराधी

बता दें कि सिवान का मुख्यालय शहर है। यहां सभी सरकारी विभागों के कार्यालय हैं। यह बड़े शहरों की तरह विकसित नहीं है इस कारण ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को अपने महत्वपूर्ण कार्यों के निपटारे के लिए मुख्यालय का रुख करना पड़ता है। लोगों की नजर में शहर सबसे सुरक्षित स्थान माना जाता है लेकिन पिछले कुछ दिनों से जिस तरह से आपराधिक घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है उससे अब लोगों के बीच पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्न चिह्न उठने लगे हैं। हर घटना को अंजाम देने के बाद अपराधी आसानी से निकल जाते हैं और पुलिस हाथ मलती रहती है। वहीं चाक-चौबंद सुरक्षा व्यवस्था व सघन गश्त का दावा करने वाली पुलिस के लिए सबसे बड़ी समस्या यह है कि वह एक मामले को सुलझाने में जहां व्यस्त रहती है वहीं अपराधी दूसरी घटना को अंजाम दे फिर से पुलिस की कमी को उजागर करने का काम करते हैं। हर घटना के बाद पुलिस अपराधियों की जल्द गिरफ्तारी का दावा करती जरूर दिखती है,लेकिन खोखले दावों से अब लोगों का भरोसा उठने लगा है।