दहेज को ले पति ने पत्नी को जलाया, स्थित गंभीर

0
jalaya

परवेज अख्तर/सिवान :- जिले के जी. बी. नगर थाना क्षेत्र के पचरहठा गांव में शुक्रवार की दोपहर नवविवाहिता प्रियंका देवी को उसके ससुराल वालों ने दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर शरीर पर केरोसिन डाल जला दिया जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई। पड़ोसियों ने विवाहिता प्रियंका देवी को इलाज के लिए सदर अस्पताल पहुंचाया जहां पर वह जिंदगी और मौत से जूझ रही थी। वहीं पीड़िता ने सदर अस्पताल में बयान दिया कि उसे उसके पति ने जलाया और घर के बाहर ससुर और सास मौजूद थीं। इधर सदर अस्पताल के बर्न केयर यूनिट में पंखा नहीं होने के कारण पीड़िता गर्मी से बेहाल रही। बता दें कि छपरा जिला के गड़खा थाना क्षेत्र के मइकी कोटवा गांव निवासी मुन्ना साह की पुत्री प्रियंका कुमारी की शादी सिवान जिले के जीबी नगर थाना क्षेत्र के पचरहठा गांव निवासी पलटन साह के साथ मई 2017 में हुई थी। तभी से दहेज लोभियों द्वारा दहेज की मांग की जा रही थी, इसी को लेकर घायल प्रियंका के पिता मुन्ना साह ने कई बार बुद्धिजीवियों के साथ बैठक कर पंचायती की, फिर भी दहेज दरिंदे नहीं माने। उन्होंने 2 मई को जीबी नगर थाना पहुंचकर अवर निरीक्षक शशिकांत तिवारी अपनी पुत्री की जान बचाने की गुहार लगाते हुए उसके ससुरालियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की। थाने के पदाधिकारी द्वारा समुचित कार्रवाई नहीं होने पर इससे निर्भीक के ससुराल वालों ने प्रियंका के शरीर पर केरोसिन छिड़ककर आग के हवाले कर मौत के घाट उतारने का प्रयास किया। एसपी नवीन चंद्र झा ने बताया कि पूर्व में आवेदन मिलने की जानकारी मुझे नहीं है। अगर पूर्व में अवर निरीक्षक शशिकांत तिवारी को आवेदन मिली है तो इसकी जांच कर कार्रवाई की जाएगी। थाने पहुंचे घायल प्रियंका के पिता मुन्ना साह एवं परिजनों ने यह आरोप लगाया कि दो मई को दिए गए आवेदन पर अगर पुलिस कार्रवाई की होती तो आज मेरी पुत्री दहेज दानवों के द्वारा आग के हवाले नहीं की जाती।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

अस्पताल में पंखा न होने से तड़पती रही महिला

सदर अस्पताल में कुव्यवस्था का आलम यह रहा कि शुक्रवार को जब गंभीर रूप से जली पीड़िता प्रियंका को बर्न केयर यूनिट में लाया गया तो वहां पंखा गायब था। पीड़िता गर्मी से तड़प रही थी और उसे देखने वाले भी कोई नहीं थे। इस कारण वह कराहती रही। उसके साथ आए परिजन भी गर्मी से बेहाल दिखे तथा अस्पताल की कुव्यवस्था को कोसते रहे।[sg_popup id=”5″ event=”onload”][/sg_popup]

treatment in sadar aspatal