पियक्कड़ सम्मेलन: पूर्व विधायक श्री श्याम बहादुर सिंह को लेकर भाजपा-जदयू आमने-सामने

0
  • बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा कि पहले वे शराब पीते भी थे और बेचते भी थे
  • मुट्ठी भर लोग भाजपा-जदयू की दशकों पुरानी दोस्ती की जड़ में मट्ठा डालने की कोशिश कर रहे हैं

✍️परवेज अख्तर/एडिटर इन चीफ:
सिवान जिले के बड़हरिया के पूर्व विधायक और जदयू नेता श्री श्यामबहादुर सिंह को लेकर भाजपा और जदयू आमने-सामने आ गए हैं। पियक्कड़ सम्मेलन करने की घोषणा करने वाले श्याम बहादुर ने बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष श्री संजय जायसवाल के शराबबन्दी को लेकर दिये गए बयान पर निशाना साधा है।आरोप लगाया है कि पहले वे शराब पीते भी थे और बेचते भी थे। यह भी कहा है कि जायसवाल समाज के लोग यही सब काम करते हैं। इसके साथ ही महागठबंधन के सीवान के एमएलसी प्रत्याशी श्री बिनोद जायसवाल से भी तुलना करते हुए प्रदेश अध्यक्ष पर पूर्व विधायक ने कटाक्ष किया। श्याम बहादुर के बयान पर भाजपा उपाध्यक्ष श्री राजीव रंजन ने आपत्तिजनक बताया और जदयू से कार्रवाई की मांग की है। इससे पहले श्याम बहादुर सिंह ने यह भी कहा कि शराबबंदी कानून में थोड़ी छूट मिलनी चाहिए।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

यह भी ऐलान किया था कि हम सीवान के गांधी मैदान में पियक्कड़ सम्मेलन कराने जा रहे हैं। थोड़ी ठंड कम हो जाये तब बुलायेंगे।लोगों को बुलायेंगे और जो लोग कहेंगे वह पिलायेंगे।बहुत सारा ब्रांड है। पूंजी के हिसाब से जो ठीक बैठेगा वह लोगों को पिलायेंगे। पियक्कड सम्मेलन में लोगों से पूछेंगे कि पीने वाले कितने हैं और न पीने वाले कितने लोग हैं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल पर आपत्तिजनक बयान देने पर भाजपा ने श्याम बहादुर सिंह को निशाने पर लिया है। प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव रंजन ने जदयू से उनको पार्टी से निष्कासित करने की मांग की है।कहा है कि श्री श्याम बहादुर सिंह की भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष तो दूर किसी सामान्य कार्यकर्ता पर भी उंगली उठाने की हैसियत नहीं है।जदयू के यह नेता खुद अपनी और अपनी पार्टी की फजीहत करवाने के लिए जाने जाते हैं।

दारू से इनका प्रेम इतना अधिक है कि सर्दी के मौसम के बाद इन्होंने ‘पियक्कड़ सम्मेलन करवाने का ऐलान किया है। डॉ. जायसवाल पर उनका दिया बयान भी सामान्य परिस्थिति में दिया गया नहीं लगता है। जदयू से आग्रह है कि ऐसे नेताओं पर लगाम लगाए तथा पुलिस प्रशासन से इनकी जांच करवाए। कहा कि वास्तव में जदयू के कुछ नेताओं ने मान-मर्यादा को ताक पर रख दिया है। निजी स्वार्थ पूर्ति न होने के कारण यह मुट्ठी भर लोग भाजपा-जदयू की दशकों पुरानी दोस्ती की जड़ में मट्ठा डालने की कोशिश कर रहे हैं। भाजपा प्रवक्ता अरविंद कुमार सिंह ने कहा कि श्याम बहादुर सिंह से पूछना चाहता हूं कि जो पियक्कड़ सम्मेलन वह बुलाने जा रहे हैं, उसमें उनके जिले के ही लोग रहेंगे या जदयू के अन्य विधायक व पदाधिकारी भी रहेंगे। कृपया श्याम बहादुर सिंह बताने का कष्ट करेंगे।