केंद्र पर सघन जांच के विरोध में परीक्षार्थियों ने किया परीक्षा का बहिष्कार, हंगामा

0
exam ka bahiskar

परवेज अख्तर/सिवान : शहर के राजा सिंह कॉलेज में आयोजित होने वाले परीक्षा का आयुर्वेद सत्र 2017 विशेष 18 के प्रथम, द्वितीय, तृतीय व्यवसायिक एवं चतुर्थ व्यवसायिक (पूरक) परीक्षा के परीक्षार्थियों ने बहिष्कार कर दिया। परीक्षार्थी परीक्षा केंद्र पर प्रशासन द्वारा अनौपचारिक रूप से ली जा रही तलाशी का विरोध कर रहे थे। आयुर्वेद के परीक्षार्थियों द्वारा सहूलियत से परीक्षा देने की इच्छा का कॉलेज प्रशासन द्वारा विरोध प्रदर्शन के बाद छात्रों ने परीक्षा का पूर्णत: बहिष्कार कर दिया। परीक्षार्थियों का आरोप था कि परीक्षा केंद्र के मुख्य गेट पर जांच कर रहे वीक्षकों द्वारा पैंट खोलने को कहा जा रहा था, साथ ही जूते व मोजे उतरवाए जा रहे थे। जिसका छात्रों ने विरोध करते हुए हंगामा कर दिया और नारे लगाने लगे। छात्र परीक्षा केंद्र को बदले जाने की मांग कर रहे थे। जिसको देखते हुए केंद्राधीक्षक डॉ. अरुण कुमार सिन्हा द्वारा परीक्षा केंद्र को रद करने की घोषणा कर दी गई। परीक्षार्थियों द्वारा हंगामा व विरोध करने के बाद केंद्राधीक्षक ने इसकी सूचना नगर थानाध्यक्ष सुबोध कुमार को दी। सूचना पर त्वरित कार्रवाई करते हुए थानाध्यक्ष ने परीक्षा केंद्र पर पुलिस बल की तैनाती कर दी। केंद्राधीक्षक ने बताया कि शनिवार को प्रथम पाली में नियत परीक्षार्थियों की परीक्षा में संपूर्ण परीक्षार्थी परीक्षा के न्यूनतम नियमों की अवहेलना कर एकत्रित होकर कानून और व्यवस्था का प्रश्न खड़ा कर दिए तथा समवेत स्वर में कदाचार करने को अपना अधिकार जताने लगे। उन्होंने बताया कि परीक्षार्थी मुख्य गेट पर हो रहे जांच का विरोध करने लगे और किताब, मोबाइल, बैग वगैरह लेकर भीड़ बनाकर परीक्षा कक्ष में घुसने लगे। साथ ही हो-हल्ला करने लगे। साथ ही परीक्षा केंद्र के शिक्षकों व कर्मचारियों के साथ अभद्रता करने लगे। जिसको लेकर परीक्षा केंद्र को रद्द कर दिया गया। इसकी सूचना उन्होंने विश्वविद्यालय के कुलपति को भी दे दी थी। साथ ही परीक्षा के लिए विश्वविद्यालय के पर्यवेक्षक सह संस्कृत महाविद्यालय दीप मधुबनी के प्राचार्य डा. शिवलोचन झा को दे भी दी। बतादें कि कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय, दरभंगा द्वारा संबद्ध दयानंद आयुर्वेदिक महाविद्यालय के सत्र 2017 विशेष 18 की पूरक व वार्षिक परीक्षा शनिवार से ली जानी थी। जिसमें कुल 250 छात्रों को शामिल होना था। प्रथम पाली में सप्लीमेंट्री के 195 व एनुअल रेगुलर के 50 परीक्षार्थी शामिल हैं। वहीं दयानंद आयुर्वेदिक महाविद्यालय प्रशासन ने बताया कि परीक्षा को सुचारू रूप से आयोजित करने के लिए महाविद्यालय के सभी सीनियर स्टॉफ जाकर केंद्राधीक्षक से जाकर परीक्षा करवाने का निवेदन किया। फिर भी बात नहीं बनी। उन्होंने केंद्राधीक्षक से दूसरी पाली की परीक्षा आयोजित कराने का भी निवेदन किया। लेकिन केंद्राधीक्षक ने परीक्षा केंद्र निरस्त करने की बातें कही। इसको लेकर सभी परीक्षार्थी अपने महाविद्यालय में चले गए। इस दौरान सभी छात्रों में आक्रोश व्याप्त था। पूछे जाने पर कोई भी छात्र कुछ भी बताने से कतरा रहे थे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal