तेज रफ्तार पिकअप ने बच्ची को रौंदा, सड़क जाम कर प्रदर्शन

0
accident in tarwara

परवेज़ अख्तर/सिवान : जिले के जी. बी. नगर तरवारा थाना के गंडक नहर समीप एसएच 73 पर गुरुवार की शाम एक तेज रफ्तार पिकअप ने 10 वर्षीय बच्ची को रौंद दिया। जिससे उसकी मौत घटनास्थल पर ही हो गई। घटना के बाद गाड़ी चालक गाड़ी लेकर फरार हो गया। इसके बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने सड़क जाम कर दिया। इससे यातायात बाधित हो गया। मृत बच्ची चांचोपाली कुंहारटोली निवासी विसर्जन पड़ित की इकलौती पुत्री नंदनी कुमारी (10) बताई जाती है। जानकारी के अनुसार नंदनी अपनी मां सविता देवी के साथ तरवारा बाजार आई थी। बाजार से लौटने के क्रम में नंदनी गंडक नहर के समीप समोसा खरीदने के लिए सड़क के दक्षिणी छोर पर गई। दुकान से लौटते समय तेज रफ्तार में सिवान की तरफ से मलमलिया की ओर जा रही पिकअप ने उसे रौंद दिया और गाड़ी चालक गाड़ी लेकर फरार हो गया। घटना के बाद नंदनी के सिर में गंभीर चोट लगी थी, जिससे उसकी मौत घटनास्थल पर ही हो गई। घटना के बाद आक्रोशित लोगों ने सिवान-मलमलिया मुख्य मार्ग को जाम कर दिया तथा मुआवजा की मांग तथा उक्त चालक के विरुद्ध कार्रवाई की मांग करने लगे। सूचना मिलते ही जीबी नगर तरवारा की पुलिस मौके पर पहुंची और ग्रामीणों को समझा बुझाकर जाम हटावाया। इधर जाम के कारण एसएच पर गाड़ियों की लंबी कतार सड़क के दोनों तरफ देखने को मिली। बता दें कि नंदनी कुमारी को दो भाई अनूप कुमार (5) एवं छोटे (3) हैं। JDU adhyaksh

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल

तरवारा गंडक नहर में पिकअप की धक्का से विसर्जन पड़ित की इकलौती पुत्री नंदनी कुमारी (10) की मौत के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। परिजनों के चीत्कार से वहां उपस्थित सभी की आंखे नम हो जा रहीं थीं। वहीं ग्रामीण परिजनों को सांत्वना दे रहे थे। नंदनी की मां सविता देवी का रो-रोकर बुरा हाल था। उसके चीत्कार से सभी की आंखें नम हो जा रही थी।crying parents

जाम में फंसे रहे दर्जनों वाहन, यात्रियों को हुई परेशानी

सड़क दुर्घटना के बाद घटनास्थल के दोनों ओर दर्जनों छोटी-बड़ी गाड़ियां फंसी रहीं। जिससे यात्रा करने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। कुछ लोग तो गाड़ी से उतर कर अपने गंतव्य स्थल पर पैदल ही प्रस्थान कर गए तो कुछ जाम हटने का इंतजार कर रहे थे। वहीं पुलिस जाम कर रहे लोगों को खबर प्रेषण तक समझाने में जुटी हुई थी।road jam