पांच दिवसीय पल्स पोलिया अभियान की हुई शुरूआत, पीएचसी प्रभारी ने नौनिहालों को पिलाई “जिन्दगी की दो बूंद”

0

पंकज कुमार सिंह/छपरा :
मशरक पीएचसी में प्रभारी डॉ अनंत नारायण कश्यप ने मशरक में 11 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक चलने वाले प्लस पोलियो उन्मूलन अभियान को हरी झंडी दिखाकर शुभारंभ किया। क्रार्यक्रम की शुरूआत प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी मशरक डॉ अनंत नारायण कश्यप ने बच्चे को पोलियो की दवा पिलाकर की। प्रखंड के हर घर के बच्चे को जन्म से लेकर 5 वर्ष तक को इस अभियान के तहत पोलियो का खुराक पिलाना है। इस कार्यक्रम में डॉ पवन कुमार भारती, स्वास्थय प्रबंधक परवेज रजा, डब्लूएचओ अमित कुमार,बीसीएम लव कुश कुमार, सुपरवाइजर अखिलेंद्र सिंह, एएनएम गीता देवी,बीएमसी यूनिसेफ बासुकीनाथ पांडेय मौजूद रहे। मौके पर प्रभारी डॉ कश्यप ने बताया कि पाँच दिन आंगनबाड़ी केंद्रों पर भी पोलियो की दवा उपलब्ध रहेंगी, जहां से बच्चों को खुराक दिया जाऐगा है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.45 PM
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.44 PM (1)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.44 PM
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.42 PM (1)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.43 PM (1)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.44 PM (2)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.42 PM
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.43 PM

जबकि हर चौराहे, बस स्टेन्ड, रेलवे स्टेशन पर भी चंलत पोलियो बूथ लगाया गया है।पीएचसी के पोषक क्षेत्र में कुल 24 हजार से अधिक बच्चों को पोलियो की खुराक दिए जाने का लक्ष्य रखा गया है। इस कार्यक्रम को लेकर टीमों ने अपना अपना कार्य शुरु कर दिया है। स्वास्थ्य कार्यकर्ता पांच दिनों तक लोगों के घर घर जाकर बच्चों को पोलियो की खुराक बुलाएंगे।पोलियो से निपटने के लिए माइक्रो प्लान तैयार किया गया है। जिसमें हर इलाके में जाने वाली टीम से लेकर पोलियो कार्यकर्ता तक का ब्यौरा रखा गया है। पूरे कार्यक्रम के संचालन पर निगरानी रखने के लिए 24 सुपरवाइजर रखे गए हैं। साथ ही इन सभी को गाइड करने के लिए 79 माॅनीटर को भी रखा गया है और एक भी बच्चा छूट गया सुरक्षा चक्र टूट गया नारे के साथ पांच दिवसीय पल्स पोलियो अभियान की शुरुआत कर दी गई है।

0 से 5 वर्ष तक बच्चों को पिलायी जायेगी दवा

डॉ अनंत नारायण कश्यप ने बताया यह दवा 5 वर्ष से कम आयु के सभी बच्चों के लिए आवश्यक है। 5 वर्ष तक की आयु के बच्चों को बार-बार खुराक पिलाने से पूरे क्षेत्र में इस बीमारी से लड़ने की क्षमता बढ़ती है, जो कि पोलियो के विषाणु को पनपने से रोकती है। विभाग की पूरी कोशिश है कि पांच साल तक का कोई भी बच्चा पोलियो की दवा पीने से वंचित न रहे। इसके लिए सभी टीमों को निर्देशित किया गया है।