गोपालगंज में बाढ़ की स्थिति हुई गंभीर, 5 नए गांवों में फैला गंडक नदी का पानी, जारी है पीड़ितों का पलायन

0

गोपालगंज: लगातार हो रही बारिश की वजह से बिहार के कई जिलों में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। गोपालगंज में बाढ़ की स्थिति गंभीर हो गई है। जिले में गंडक नदी खतरे के निशान से सवा मीटर ऊपर बह रही है। नदी के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है। नदी का पानी एब पांच नए गांवों में फैल गया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

जिले में बाढ़ के कहर की वजह से अबतक 45 गांवों के पांच हजार परिवार विस्थापित हो गए हैं। गोपालगंज सदर, बैकुंठपुर, मांझागढ़ और सिधवलिया अंचलों के गांवों में लगातार पानी फैल रहा है। बाढ़ प्रभावित गांवों का जिला और प्रखंड मुख्यालयों से सड़क संपर्क कट गया है। वहीं बाढ़ पीड़ितों का लगातार पलायन जारी है।

मुजफ्फरपुर की तीन दर्जन पंचायतों में संकट बढ़ा

जिले में गंडक, बूढ़ी गंडक व बागमती में उफान से औराई, कटरा के साथ-साथ गायघाट प्रखंड में फिर बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। दो दर्जन पंचायतों के निचले इलाके में पानी फैल रहा है। बूढ़ी गंडक का दबाव शहर से सटे आधा दर्जन मोहल्लों पर बना हुआ है। दूसरी तरफ सकरा में कदाने और नून नदी के पानी में तेज वृद्धि तेजी से दर्जनाधिक पंचायतों में बाढ़ की स्थिति गंभीर हो गई है। बेरुआ,बरियारपुर, गौरिहार, राजापाकड़, कटेसर, बाजी आदि पंचायतों का प्रखंड मुख्यालय से संपर्क कट गया है। प्रमुख सड़कों पर तीन फीट तक पानी बह रहा है। लगातार बारिश को देखते हुए गंडक व बागमती तटबंध पर निगरानी बढ़ाने का निर्देश दिया गया है।

बगहा शहर के 200 से अधिक घरों में घुसा पानी

नेपाल के तराई क्षेत्रों में हुई भारी बारिश से गंडक नदी का पानी शहर के कैलाश नगर सहित करीब आधा दर्जन वार्डों में प्रवेश कर गया है। आधा दर्जन वार्डों के 200 से अधिक घरों में बाढ़ का पानी घुसने से आम जनजीवन प्रभावित है। कई परिवार रेलवे ट्रैक के किनारे टेंट में शरण लिए हैं। वहीं गंडक का पानी पीपरासी प्रखंड की सेमरा लबेदहा पंचायत के कई गांव में प्रवेश कर गया है। सड़क पर तीन फीट पानी बह रहा है।

मोतिहारी के छह प्रखंडों में बाढ़ की तबाही शुरू

पूर्वी चंपारण के छह प्रखंडों अरेराज, संग्रामपुर, बंजरिया, पताही, केसरिया व सुगौली में बाढ़ का पानी प्रवेश करने से करीब 70 हजार की आबादी प्रभावित है। संग्रामपुर की पुछरिया पंचायत के तीन गांव तो अरेराज के एक दर्जन गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। पताही में मोतिहारी-शिवहर पथ पर आवागमन ठप है। डुमरिया घाट में गंडक नदी का जलस्तर खतरे के निशान से एक मीटर ऊपर है। चटिया में भी गंडक के जलस्तर में वृद्धि जारी है। सिकरहना नदी में उफान से सुगौली की सात पंचायते बाढ़ से घिर गई हैं। फिलहाल यहां लोग नाव से आवागमन कर रहे हैं। सुगौली नगर पंचायत के वार्ड-01 का नायक टोला बाढ़ से घिर गया है।