कोरोना को मात देने वालों को विजेता के रूप में अपनाएं, नहीं करें भेदभाव

0
mask
  • 6 फीट की दूरी और मास्क जरूरी
  • कोविड के अनुरूप व्यवहारों का हर समय पालन करें
  • स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने वीडियो जारी कर किया जागरूक

छपरा :- जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों के स्वस्थ होने के संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। जैसे-जैसे तेजी से जांच हो रहा है वैसे वैसे पॉजिटिव मरीजों की संख्या में लगातार कमी भी देखी जा रही है। लेकिन इन सबके बीच कोरोना संक्रमण से उबर चुके व्यक्तियों को सामाजिक भेदभाव का सामना करना पड़ रहा है। इसको लेकर विभाग की ओर से लगातार जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है। साथ ही केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी कर हो रहे सामाजिक भेदभाव के प्रति लोगों को जागरूक करने की एक पहल शुरू की है। वीडियो के माध्यम से कोरोना संक्रमण से उबर चुके व्यक्तियों के साथ भेदभाव नहीं करने का संदेश दिया गया है। उसमे बताया गया है, कोरोना संक्रमण से उबर चुके व्यक्तियों के साथ सामाजिक भेदभाव नहीं करें बल्कि उनके और उनके परिवारों के प्रति सहानुभूति रखें। कोरोना संक्रमण भी एक आम बीमारी की तरह है इससे ठीक हो चुके व्यक्तियों से कोई खतरा नहीं रहता है। इसलिए उनके साथ भेदभाव नहीं करना चाहिए। यह भी नहीं भूलना चाहिए कि कोरोना संक्रमण से अधिकतर व्यक्ति स्वस्थ हो रहे हैं। लगातार स्वस्थ होने वालों की संख्या बढ़ रही है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
vigyapann
ads

वीडियो के माध्यम से दिया गया संदेश

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी कर भेदभाव के खिलाफ जागरूकता फैलाने की पहल शुरू की है । इस वीडियो में एक कार्यालय के कर्मचारी और उसके बॉस आपस में बातचीत कर रहे हैं… “कर्मी कहता है- सर, सुना है सुनिल कोविड-19 से ठीक होने के बाद वापस से काम शुरू कर रहा है, बॉस- हां सही है सुना है.. कर्मी- उसको कोई अलग कमरा दे दीजिएगा और खाना भी वहीं खायेगा। बॉस- तुम्हे भी तो एक साल पहले टायफाइड हुआ था तो क्या तुम सबके साथ नही खाते थे। यह भी एक आम बीमारी की तरह है। ठीक होने के बाद बीमार से कोई खतरा नहीं है।”

6 फीट की दूरी और मास्क जरूरी

कोविड-19 के संक्रमण से बचने के लिए 6 फीट की दूरी और मास्क का उपयोग बहुत ही जरूरी है। इसलिए मास्क का उपयोग अवश्य करें। एक दूसरे के बीच 6 फीट का शारीरिक दूरी भी अपनाएं। आपकी सुरक्षा पूरी तरह से आपके हाथों में है। इसलिए अपनी आंख नाक और मुंह को छूने से बचे। अपने हाथ को साबुन और पानी से नियमित तौर पर अच्छी तरह से धोएं।

कोविड-19 अनुरूप व्यवहारों को हर समय पालन करें

सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने बताया, कोविड-19 रूप व्यवहारों को हर समय पालन करें और अपने आसपास के लोगों के लिए एक सुरक्षित वातावरण बनाएं। करोना की रोकथाम के लिए लोगों को जागरूक करना हम सब की सामूहिक जिम्मेदारी है। कोविड-19 से स्वयं को सुरक्षित रखने का सबसे महत्वपूर्ण उपाय है कि हम सफाई से रहे, मास्क लगाएं और सभी से 2 गज की दूरी बनाकर रखें।

सम्मानजनक व्यवहार जरूरी: सीएस

सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने बताया, किसी व्यक्ति के संक्रमित हो जाने के बाद उनके साथ सामाजिक भेदभाव हो रहा है तो यह गलत है। समाज में इस तरह का व्यवहार नहीं होना चाहिए। संक्रमित के ठीक होने के उपरांत उनसे सम्मानजनक व्यवहार हो। प्रायः देखा जा रहा है कि उन्हें बीमारी फैलाने का जिम्मेवार ठहराकर सामाजिक बहिष्कार किया जा रहा है यह भी गलत है। इसके कारण लोग अपनी समस्याएं छिपाते है। इसलिए किसी भी व्यक्ति के साथ भेदभाव नहीं होना चाहिए।

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here