फॉलोअप: सिवान के सरावें में होम्योपैथिक दवा मर्कसोल के अधिक सेवन से हुई दो लोगों संदिग्ध मौत,एक जनप्रतिनिधि के इशारे पर पीड़ितों ने आखिर क्यों छुपाया एसपी सिवान से तथ्य ?

0
  • कानूनी कार्रवाई के डर से परिजनों ने दोनों मृतकों का किया सामूहिक अंतिम संस्कार
  • स्थानीय एक जनप्रतिनिधियों के इशारे पर मृतकों का कराया अंतिम संस्कार
  • दो लोगों की संदिग्ध मौत के बाद सरावें दलित बस्ती में पसरा मातमी सन्नाटा

✍️परवेज अख्तर/एडिटर इन चीफ:
सिवान जिले के मुफस्सिल थाना के सरावें दलित बस्ती में दो लोगों की संदिग्ध परिस्थिति में मौत के बाद मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है.दोनों परिवारों की महिलाएं एवं बच्चे अपनों के खोने के गम में दहाड़ मारकर रो रहे थे.गांव के बाहर पोखरे के समीप स्थित श्मशान घाट में दोनों परिवार के लोगों ने एक साथ सामूहिक अंतिम संस्कार कर दिया.लोगों ने बताया कि स्थानीय जनप्रतिनिधि परिवार वालों से मिलने आए थे.लोग दबी जुबान से चर्चा कर रहे थे की एक जनप्रतिनिधियों द्वारा परिजनों से कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए जल्द अंतिम संस्कार करने की सलाह दी गई.एक मृतक शिवनाथ बांसफोर आंख से अंधा था.वह शादी एवं अंतिम संस्कारों में सिंघा बजा कर अपने परिवार का भरण पोषण करता था.जहां परिजन व ग्रामीण शराब पीने से मौत की बात कह रहे है तो वहीं कुछ लोग होम्योपैथिक दवा मर्कसोल के अधिक सेवन से मौत होने की वजह बता रहे है.फिलहाल चर्चाओं का बाजार गर्म है.उधर इस मामले को गंभीरता से लेते हुए सिवान एसपी श्री शैलेश कुमार सिन्हा ने अपने स्तर से एक पुलिस टीम का गठन कर बारीकी पूर्वक जांच करा रहे हैं।कई ग्रामीणों का कहना है कि आखिर एक जनप्रतिनिधि के इशारे पर पीड़ितों ने मृतकों का दाह संस्कार क्यों किया ?पुलिस जगत के आला पुलिस पदाधिकारी को इसकी सूचना क्यों नहीं दी गई ? लोगों का कहना है कि जबकि सिवान एसपी का सरकारी मोबाइल नंबर सार्वजनिक है।आखिर पीड़ितों ने उस नंबर पर कॉल क्यों नहीं किया ?कई लोगों का कहना है कि अगर इस मामले की जानकारी सिवान एसपी श्री शैलेश कुमार सिन्हा को दी गई होती तो मौत के कारणों का पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट में चल जाता।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

कंचन के घर से होम्योपैथिक दवा मर्कसोल की मिली खाली बोतल

मृतक कंचन राम के परिवार के लोगों ने एक खाली बोतल को दिखाते हुए बताया कि इसी बोतल में शराब लाकर उसने पिया था. खाली बोतल होम्योपैथिक दवा मर्कसोल 30 की थी.ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि शराब नहीं मिलने की स्थिति में धंधेबाजों द्वारा इसी होम्योपैथिक दवा को मिलाकर शराब बनाया जाता है. 400 एमएल की होम्योपैथिक की खाली बोतल शराब के धंधेबाजों द्वारा कहां से आपूर्ति की जाती है यह जांच का विषय है. क्योंकि सरकार द्वारा स्पष्ट निर्देश है कि होम्योपैथिक की दवा आम लोगों तक छोटे-छोटे बोतलों में ही उपलब्ध करानी है.

क्या बोले एसपी सिवान

सिवान एसपी श्री शैलेश कुमार सिन्हा ने बताया कि संदिग्ध मौत मामले में जांच चल रही है हालांकि शराब पीने से मौत नहीं हुई है,अनुसंधान के प्रथम दृष्टया में मृतक हेमियोपैथ की होम्योपैथिक दवा मर्कसोल 30 की सेवन अधिक मात्रा में किये हैं,जिसके कारण उनकी मृत्यु हुई है,वैसे इस सारे प्रकरण का पर्दाफाश करने के लिए एक पुलिस टीम का गठन कर बारीकी पूर्वक अनुसंधान प्रारंभ करा दिया गया है.