रात्रि में हुई झमाझम बारिश के बाद बढ़ी ठंड

0
baarish

आलू की फसल पर वर्षा का पड़ा बुरा प्रभाव,फसल में लगी पानी हो सकती है नष्ट

खेतो में अधिक नामी होने के कारण रबी फसल बुआई पर लगा विराम

परवेज अख्तर/सिवान:- जिले में गुरुवार की रात्रि व शुक्रवार को दिनभर रिमझिम रिमझिम वर्षा होती रही.उसके बाद शुक्रवार की रात्रि आसमान में घने बादल के साथ हुई झमाझम बारिश से मौसम में आये बदलाव की वजह से ठंड में भी इजाफा हुआ.शनिवार की सुबह बादलों का कब्जा रहा . दोपहर में आसमान पर बादलों और सूर्य के बीच लुका – छिपी का खेल चलता रहा . सूरज की रोशनी पूरे दिन लुका छिपी का खेल खेलती नजर आयी. लिहाजा , कड़ाके की ठंड ने लोगों को परेशान कर दिया। आम जन जीवन को मौसम ने पूरी तरह प्रभावित कर दिया है.वही सुबह से चल रही पूर्वा हवा ने तो बच्चो व मरीजो को झकझोर कर रख दिया है.शनिवार को जिले में अधिकतम तापमान 22° व न्यूनतम तापमान 13°दर्ज की गयी.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

आलू की फसल में लगी पानी हो सकती है नष्ट

गुरुवार की रात्रि व शुक्रवार को दिन में हुई रिमझिम वर्षासे तो किसानों में खुशी दिखी लेकिन शुक्रवार की रात्रि में हुई झमाझम वर्षा से किसानों की आलू की फसल को पानी लग जाने के कारण शनिवार को किसान मायूस दिखे.सुबह होते ही किसान अपने अपने खेतो के चक्र लगाने लगे.आलू की फसल में पानी देख किसान चिंतित रह गये.कुछ किसान अपने खेतों से पानी निकालने लगे.वही किसान ओसिहर तुरहा, जयनाथ पंडित ने कहा कि आलू के फसल में पानी लग जाने के कारण आलू का साइज छोटा छोटा होगा व आलू की पैदावार अच्छी नही होगी साथ ही आलू की फसल जल्द ही सूखने की संभावना बनी रहती है.

रबी फसल बुआई पर लगा विराम

झमाझम बारिश के बाद जो गेंहू की फसल की बुवाई नही हुई है.उस तरह के खेतों में कुछ दिनों तक विराम लग गया .क्योंकि खेत मे पानी भी लग गयी है.जिससे जबतक मिट्टी सुख नही जाता तबतक फसल की बुवाई नही होगी.अधिक नमी में बीज सड़ने की संभावना बनी रहती है.वही जिन खेत मे बुधवार व गुरुवार को गेहूं की बुवाई हुई है उन खेतो मे बिज का अकुरन विलम्ब से होगी.

पोल गिरने से बिजलीं बाधित

झमाझम वर्ष मे शहरी व देहाती क्षेत्रो में कई घण्टो बिजलीं बाधित रही.बताते चले कि शहरी क्षेत्रों में तो कम लेकिन देहाती क्षेत्रो में यदि पानी रिमझिम हो या झमाझम बिजलीं बाधित हो जाती है.गांवही क्षेत्रो के लोगो का कहना है कि जब जब पानी होती है तो बिजलीं आने की संभावना नही रहती है.सदर प्रखंड व पचरुखी प्रखंड के झुनापुर, बिंदुसार, आकोपुर, रसूलपुर, बरहनी, बरहन,रामपुर मर्दापुर, गोपालपुर,बिशुनपुर,बलचंदहाता,कुर्मिहाता आदि गांव में गुरुवार की रात्रि से ही बिजलीं बाधित रही.शुक्रवार को दो घण्टे के लिए बिजलीं आई फिर अपनी घर लौट गयी. वही शहरी क्षेत्र के मखदूम सराय मोड पर वर्षा में बिजलीं के पोल गिरने से और डीएवी कॉलेजनके समीप बिजलीं के तार पर पेड़ के तंगुनी गिरने से बिजलीं पूरे दिन बाधित रही.