एसएनसीयू में भर्ती नवजात शिशु और मां के बीच कांच की दीवार

0
bacha

• कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए विशेष इंतजाम
• हाथ धोने के बाद ही अपने लाडलो को दूध पिला रही माँ

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
a1
ads
WhatsApp Image 2020-11-09 at 10.34.22 PM
adssssssss
a2

छपरा:- वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण का प्रसार रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से कई अहम प्रयास किये जा रहें है। इस संक्रमण से बचने के लिए लोग एहतियात बरत रहे हैं। वहीं ऐसे माहौल में जन्म लेने वाले नवजातों को लेकर अस्पताल प्रबंधन पूरी तरह से सतर्क है। अस्पताल की एसएनसीयू( सिक न्यूबोर्न केअर यूनिट) में भर्ती बच्चों को जहां मां पहले उनके पास जाकर उन्हें देख सकती थीं, लेकिन अब मां और बच्चे के बीच कांच की दीवार आ चुकी है। गौरतलब है, कि एसएनसीयू में भर्ती बच्चों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा बच्चों के परिजनों सहित मां को वार्ड में अंदर नहीं आने दिया जा रहा है। ऐसे में जच्चा अगर अपने बच्चे को देखना चाहता है, तो प्रबंधन द्वारा बनाए गए कांच के रूम में देख सकता है। रूम में मां अपने बच्चे का कांच की दूसरी साइड खड़े होकर दुलार सकती है।

दूध पिलाने से पहले साबुन से धुलाए जाते हैं हाथ, फिर कराए जाते हैं सेनेटाइज

एसएनसीयू में बच्चों को स्तन पान कराने के लिए आने वाली माताओं को स्टाफ द्वारा सबसे पहले दो बार साबुन से हाथ धुलाए जाते है। उसके बाद सेनेटाइज कराए जाते हैं। उसके बाद ही मां अपने बच्चे को स्तर पान करा पाती है। बच्चों को संक्रमण से बचाने के लिए इस प्रकार के कदम उठाए जा रहे हैं। इसके अलावा नौनिहालों को संक्रमण से बचाने के लिए वार्ड स्टाफ पूरी सावधानी बरत रहे हैं.

स्तनपान कराने से पहले अच्छी तरह हाथ धोयें

सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने बताया कि छह माह से कम उम्र वाले शिशु को स्तनपान कराते समय साफ सफाई का पूरा ध्यान रखना जरूरी है। स्तनपान कराने से पूर्व हाथों को साबुन से अच्छी तरह धो लें। साफ तौलिये का इस्तेमाल हाथों को पोछने के लिए करें। स्तनपान कर रहे बच्चों की माताएं अपनी व्यक्तिगत साफ सफाई का पूरा ध्यान रखें.

इन बातों का रखें ध्यान

• मां को हमेशा मास्क पहनकर रहना होगा. इसके अलावा सांस लेने में हाईजीन के नियमों का पालन करना होगा.

• नवजात शिशु को लेने से पहले और बाद में हाथ जरूर धोएं. यह नियमित रूप से हर बार करना होगा.

• बच्चे को लेकर घर या अस्पताल में जिन भी जगहों पर आप जा रहे हैं, वहां साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें.