महाराजगंज में स्वर्ण कारीगर को चाकू मार मौत के घाट उतारा, फायरिंग

0

महाराजगंज के स्वर्ण व्यवसायियों में दहशत

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

परवेज अख्तर/सिवान:
इन दिनों सुशासन सरकार की पुलिस की निष्क्रियता से कपड़ा व्यवसाई व स्वर्ण व्यवसाई पर शामत आ गई है। अब इन दोनों व्यवसायियों के बीच ऐसी समस्या उत्पन्न हो गई है कि अब जाएं तो जाएं कहां ? संपूर्ण जिले में सक्रिय अपराध कर्मियों द्वारा कहीं न कहीं लगातार दोनों व्यवसायियों पर ताबाड़तोड़ सक्रिय अपराधी जो अपराधिक घटनाओं को अंजाम देकर दहशत कायम कर दिए हैं। इसके बावजूद भी पुलिस हाथ पर हाथ रखकर बैठी हुई है। जब कोई घटना घटित हो जाता है तो पुलिस की रटी रटाई जवाब अपराधियों के संदिग्ध ठिकानों पर छापेमारी जारी है। या इसे सहज भाषा में कहा जा सकता है की जैसे आग लगने पर कुआं खोदी जा रही हो। इसी कड़ी में बुधवार की देर संध्या सक्रिय अपराधकर्मियों ने सिवान जिले के महाराजगंज शहर में एक स्वर्ण कारीगर के पूरे परिवार पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दहशत मचा दी।

aspatal ke bahar bheed

यहां तक कि सक्रिय अपराधकर्मियों ने एक को चाकू मार मौत के घाट उतार दिया। जबकि 3 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। आश्चर्य की बात तो यह है कि यह घटना एसडीपीओ महाराजगंज के निवास स्थान के समीप घटित हुई। घटना के संबंध में प्राप्त विवरण के मुताबिक बुधवार को देर शाम घटना को अंजाम देने वालों ने पहले हवाई फायरिंग कर दहशत फैलाई और तीन सगे भाई समेत 4 को चाकू मार जख्मी कर दिया। जिसमें एक युवक की मौत अस्पताल में ले जाते समय रास्ते में ही हो गई। मृतक गोपालगंज जिले के मीरगंज निवासी जयप्रकाश सोनी का पुत्र बिट्टू कुमार सोनी था। जो महाराजगंज में रह कर सोने के आभूषण बनाने की कारीगरी करता था। उसके भाई यशवंत कुमार सोनी व गोलू को भी घटना को अंजाम देने वालों ने चाकू मार और मृतक का साला मनीष कुमार को चाकू मार कर गम्भीर रूप से जख्मी कर दिया। इस चाकूबाजी की घटना में यशवंत कुमार और गोलू कुमार को प्राथमिक उपचार हेतु स्थानीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। जहां चिकित्सकों ने दोनों की हालत को गंभीर देखते हुए उसे बेहतर इलाज के लिए सिवान सदर अस्पताल रेफर कर दिया। सदर अस्पताल में इलाज के पश्चात यशवंत की हालत नाजुक होने के कारण उसे बेहतर इलाज के लिए पीएमसीएच रेफर किया गया है।

परिजनों ने बताया मौत का कारण रंगदारी:

मृतक के परिजनों ने बताया कि दो तीन रोज पहले अपराधियों के द्वारा मृतक से रंगदारी मांगी गई थी। इसी बात को लेकर अपराधियों ने पहले फायरिंग किया और उसके बाद चाकू मारकर घायल कर दिया। स्थानीय लोगों के सहयोग से घायलों को स्थानीय अस्पताल लाया गया। जहां बिट्टू कुमार की मौत इलाज के दौरान हो गई।