गोपालगंज: त्योहारों के दौरान कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया अलर्ट

0
  • केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण जारी किया निर्देश
  • त्योहारों के दौरान सामूहिक प्रयासों पर रोक लगाने पर करें विचार

गोपालगंज: वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का प्रसार अभी खत्म नहीं बल्कि कम हुआ है। इसी बीच तीसरी लहर आने की संभावना जतायी जा रही है। तीसरी लहर से निपटने को लेकर स्वास्थ्य विभाग सतर्क है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने राज्यों को पत्र लिखकर आगाह किया है कि वे स्थानीय स्तर पर त्योहारों के दौरान प्रतिबंध लगाएं। स्वास्थ्य सचिव ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च की चेतावनी का जिक्र करते हुए कहा है कि बड़े स्तर पर त्योहारों के दौरान होने वाले सामूहिक आयोजन संक्रमण के फैलाव में जिम्मेदार हो सकता है। सामाजिक समारोहों से कोरोना संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी हो सकती है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

सामूहिक समारोहों पर अंकुश लगाए

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी पत्र में मुहर्रम, जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी और दुर्गा पूजा जैसे आगामी त्योहारों के लिए स्थानीय प्रतिबंध लगाने और सामूहिक समारोहों पर अंकुश लगाने पर सक्रिय रूप से विचार करने की सलाह दी गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने कोरोना की दूसरी लहर पर काबू पाने को लेकर राज्यों की तारीफ भी की लेकिन यह भी कहा कि भले ही कोरोना संक्रमण के मामलों में बीते कुछ महीनों से गिरावट देखी जा रही है लेकिन कुछ राज्य ऐसे हैं, जहां हर दिन केस बढ़ रहे हैं।

त्योहारों पर सामूहिक आयोजनों पर बरती जाए सख्ती

स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत गृह मंत्रालय की ओर से जारी किए गए निर्देशों पर ध्यान देना चाहिए। दरअसल 19 अगस्त को मुहर्रम है| 21 अगस्त को ओणम है। 30 अगस्त को जन्माष्टमी है। 10 सितंबर को गणेश चतुर्थी और 5 से 15 अक्टूबर तक दुर्गा पूजा है। ऐसे में इन त्योहारों को दौरान सामूहिक समारोहों पर अंकुश लगाने की दिशा में सोचना चाहिए।

5-टी की रणनीतियों का पालन आवश्यक

टेस्ट, ट्रैक, ट्रीटमेंट, टीकाकरण और कोविड प्रोटोकॉल की 5 रणनीतियों को कोविड के खिलाफ इस्तेमाल करना चाहिए| अगर किसी भी तरह की ढिलाई बरती जाती है तो कोरोना से एक बार फिर स्थिति बिगड़ सकती है।

ऐसे रोकें संक्रमण का प्रसार

  • एक साथ 2 मास्क का प्रयोग करें
  • आंतरिक स्थानों पर वायु संचार सुनिश्चित करें
  • दूरी बनायें रखने का हरसंभव प्रयास करें
  • साबुन से नियमित हाथ साफ़ करते रहें
  • कोविड मरीजों को अलग कमरे में रखें
  • सतहों को नियमित रूप से कीटाणुनाशकों से नियमित रूप से साफ़ करें