पोषण पखवाड़ा को जनआंदोलन में बनाने में गोपालगंज को राज्य में चौथा स्थान

0
  • लोगो की सहभागिता से पोषण गतिविधियां बनी जनआंदोलन

गोपालगंज: सुपोषण के संदेश को जन-जन तक पहुँचाने की दिशा में गोपालगंज जिला पूरे राज्य में चौथे स्थान पर है। कुपोषण जैसी गंभीर समस्या से जिला को मुक्त करने के लिए 16 मार्च से 31 मार्च तक पोषण पखवाड़ा चल रहा है। इसके तहत पोषण अभियान जन आंदोलन डेशबोर्ड पर अपलोड हुये 30 मार्च के आंकड़ों/प्रविष्टियों के अनुसार सुपोषण को केवल एक कार्यक्रम तक सीमित नहीं रखकर बल्कि उसमें अधिकतम सामूदायिक सहभागिता सुनिश्चित कराने में गोपालगंज कई जिलों से काफी आगे है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

96461 गतिविधियों का हुआ आयोजन

राष्ट्रीय पोषण मिशन के जिला समन्वयक बृजकिशोर प्रसाद ने बताया डैशबोर्ड पर अपलोड हुये आंकड़ों/प्रविष्टियों के अनुसार पोषण पखवाड़े के दौरान अधिक से अधिक सामूदायिक भागीदारी को सुनिश्चित कराने का प्रयास किया गया है। 30 मार्च तक कुल 96461 गतिविधियों का आयोजन हो चुका है जिसमे जिले के लोगो की सक्रिय भागीदारी रही और उन्होंने पोषण के महत्व और आवश्यकता के बारे में जाना । इनमें क्रमशः 9,26,692 पुरुष,11,76,183 महिला, 4,88,338 बालक और 4,83,623 बालिकाओं की सहभागिता के साथ जिला चौथे स्थान पर है। इसके आगे भी विभाग द्वारा दिये गए लक्ष्य को शत प्रतिशत प्राप्त करने के लिए प्रयासरत है।

सुपोषण के लिए आवश्यक है व्यवहार में परिवर्तन: डीएम

जिला पदाधिकारी डॉ नवल किशोर चौधरी ने कहा पोषण की आवश्यकता हर उम्र में है । माँ के गर्भ में आते ही शुरू हो जाती है और जीवन के प्रथम हजार दिन,किशोरावस्था,शादी की उम्र जीवन के अंतिम क्षणों तक होती है।लेकिन गर्भवतियों ,महिलाओं किशोरियों और शिशुओं में पोषण या पोषाहार को लेकर अभी भी व्यवहार में परिवर्तन की आवश्यकता है। ताकि हमारी अगली पीढ़ी सुपोषित हो। इसके लिए बच्चों में भोजन से पहले हाथ धोने के अभ्यास पर भी सतर्क रहने की आवश्यकता है।

उपलब्ध संसाधनों का करें प्रयोग

डीपीओ शम्स जावेद अंसारी ने बताया मौसमी फल और सब्जियाँ पोषण और शरीर के लिए आवश्यक तत्वों से भरपूर होती हैं। ये आसानी से उपलब्ध और सभी आयुवर्ग की पहुँच में भी होती हैं।इसलिए महंगे फलों और अन्य भोज्य पदार्थों की अपेक्षा अपने आस-पास उपलब्ध संसाधनों को आहार में शामिल करें।दलिया , गुड , चना हरी साग-सब्जियाँ, दूध , अंकुरित साबुत आनाज ये सब ज्यादा महंगे भी नहीं होते है और इनमें सम्पूर्ण पोषण भी मिलता है। पोषण पखवाड़े के दौरान समुदाय के लोगों को इन बातों के बारे में विस्तार से चर्चा की जाती है।