गोपालगंज: धर्मकता मंदिर से चोरी हुई मूर्तियों को पुलिस ने 48 घंटे के अंदर किया बरामद

0

पूर्व पुजारी के बाइक की डिक्की से मूर्ति हुआ बरामद

गोपालगंज: जिले के कटेया थाना क्षेत्र के धर्मकता गांव से गुरुवार की रात चोरी हुई मूर्तियों को पुलिस ने 48 घंटे के अंदर शनिवार को बगही कटेया मुख्य मार्ग के पटखौली पथ पर राइसमिल के समीप पूर्व पुजारी के बाइक की डिक्की से बरामद किया। विदित हो कि धर्मकता गांव में सैकडों वर्ष पुराना राम जानकी राधा कृष्ण सह नर्वदेश्वर महादेव मंदिर स्थापित है। जहां से विगत 25 दिसम्बर को अज्ञात चोरों द्वारा मंदिर के मुख्य दरवाजे के ताला को तोड़ राम जानकी एवं राधा कृष्ण की मूर्तियों की चोरी कर ली गई थी। चोरी हुई मूर्तियों की कीमत लाखों में बताई जा रही है। जिसमें दो मूर्तियां अष्टधातु एवं दो किसी कीमती पत्थर की थी। जिसके बाद पुलिस चोरी हुई मूर्तियों की बरामदगी के लिए ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही थी।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

इसी बीच रविवार को पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि मंदिर का पूर्व पुजारी बगही कटेया मुख्य पथ के पटखौली रोड से कहीं भागने की फिराक में है।पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए पटखौली पथ पर राइस मिल के समीप बाइक सहित पूर्व पुजारी को पकड़ कर जब बाइक की डिक्की की तलाशी ली तो बाइक की डिक्की से मंदिर से चोरी की गई मूर्तियां बरामद की गई। पुलिस ने बरामद मूर्ति के साथ ही बाइक सहित पकड़े गए पुजारी को गिरफ्तार कर थाने लाई। गिरफ्तार पूर्व पुजारी के बारे में बताया जा रहा है कि गिरफ्तार पुजारी छह माह पहले इस मंदिर के पुजारी हुआ करते थे। जिनके बुरे आचरण को देखकर ग्रामीणों ने हटा दिया।

इसी बीच 25 दिसम्बर की शाम उक्त पुजारी को ग्रामीणों ने मंदिर के आस पास देखा था।उसी रात मंदिर से मूर्तियां चोरी हुई थी। घटना के बाद से ही ग्रामीणों को पूर्व पुजारी पर मंदिर से मूर्ति चोरी करने का शक था।पुलिस के अनुसार गिरफ्तार पुजारी सिवान जिले के बड़हरिया थाना क्षेत्र के राछोपाली निवासी शोभालाल प्रसाद उर्फ त्यागी दास है। मूर्ति बरामदगी की सूचना जैसे ही ग्रामीणों को मिली ग्रामीण थाना में इकट्ठा हो गए। पुलिस की सक्रियता से बरामद मूर्ति को पाकर ग्रामीणों में काफी खुशी देखी गई। साथ ही पुलिस की कार्यशैली से ग्रामीण खुश दिखे। कुछ आवश्यक कार्यवाही करने के बाद पुलिस ने जिम्मेनामा के आधार पर मूर्ति को ग्रामीणों के हवाले किया। जिसे मंदिर में स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

क्या कहते हैं थानाध्यक्ष

इस मामले में थानाध्यक्ष सुमन कुमार मिश्र ने बताया ग्रामीणों की निशानदेही पर पुलिस लगातार पूर्व पुजारी के पीछे लगी हुई थी। जिसे शनिवार को गिरफ्तार कर मूर्ति बरामद की गई। उक्त चोरी के मामले में एक और व्यक्ति संलिप्त है। जिसके गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है।