गांव में पॉलिथीन के प्रति ठोस कदम उठाए सरकार : ग्रामीण दुकानदार

0
polithin

पॉलिथीन में सामान नहीं देने पर आए दिन ग्राहकों से होती है नोकझोंक

पॉलिथीन में सामान देने पर इसके कुप्रभाव को हमें ही झेलना पड़ेगा

परवेज अख्तर/सिवान :- प्लास्टिक ज़िन्दगी का एक अहम हिस्सा बन चुका है। हर चीज़ के लिए प्लास्टिक का इस्तेमाल हो रहा है। तमाम स्वरूपों में मिलने वाली पॉलीथिन पर्यावरण के लिए भारी चोट पहुंचा रही है। यदि इस पर समय रहते रोक नहीं लग पाई तो इसके पर्यावरण को भयानक परिणाम झेलने पड़ेंगे। पॉलिथीन पूरे देश की गम्भीर समस्या है। पहले जब खरीदारी करने जाते थे तो कपड़े का थैला साथ लेकर जाते थे, किन्तु आज खाली हाथ जाकर दुकानदार से पॉलिथीन माँगकर सामान लाते हैं। पहले अखबार के लिफाफे होते थे किन्तु उसके स्थान पर आज पॉलिथीन का उपयोग किया जा रहा है। पॉलीथीन का बढ़ता उपयोग न केवल वर्तमान के लिए बल्कि भविष्य के लिए भी खतरनाक होता जा रहा है। इस समस्या को देखते हुए दरौंदा प्रखंड के बगौरा गांव में कुछ दुकानदारों ने पॉलीथिन का उपयोग बंद करके लोगों को जागरुक कर रहे थे लेकिन प्रत्येक दिन ग्राहकों से नोकझोंक होती थी कि गांव में पॉलिथीन बंद करने का आदेश अभी सरकार के तरफ से नहीं है और आप पॉलिथीन में समान नहीं दे रहे हैं। कुछ इस प्रकार की बातों का सामना दुकानदारों को करना पड़ता है। बगौरा के दुकानदारों का कहना है कि या तो पॉलीथिन को पूर्ण रूप से बंद करें। क्योंकि अगर हम दुकानदार पॉलीथिन में सामान नहीं दे रहे हैं तो ग्रामीणों लोगों का कहना होता है कि सिर्फ शहरी क्षेत्र में ही पॉलिथीन का पूर्ण उपयोग बाधित है लेकिन अभी तक गांव में कोई भी सूचना नहीं है पॉलिथीन बंद करने को लेकर तथा यदि हम पॉलिथीन में समान देते हैं तो नुकसान हमें ही है. इसके कुप्रभाव का सामना हमें ही करना पड़ेगा।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

गांव के ही कुछ दुकानदारों ने बंद किया था पॉलिथीन में सामान देने काम

शहरी क्षेत्रों में पॉलिथीन को बंद करने का आदेश 23 दिसंबर को था इसी को देखते हुए बगौरा के ग्रामीण दुकानदार प्रिंस गुप्ता ने 19 दिसंबर को अपने दुकान पर पॉलीथिन का उपयोग बंद किया था तथा कपड़े की थैली लोगों को प्रयोग में लाने की सलाह दी थी.

पॉलीथिन हटाओ देश बचाओ अभियान भी चलाया गया था

दरौंदा प्रखंड के बगौरा पुरानी बाजार में 15 मार्च को बच्चों ने चलाया था पॉलीथिन हटाओ देश बचाओ अभियान जहां बच्चों ने पोस्टरों और बैनरो के माध्यम से जागरूक किया था. तथा ‘नो यूज़ पॉलीथिन एंड बी हेल्दी’ व ‘पॉलिथीन हटाओ देश बचाओ’ के नारे भी लगाए गए थे.