गुठनी: कर्म व परिश्रम करने कुछ भी संभव : प्रेमभूषण महाराज

0
Siwan Online News

रामकथा सुनने अमेरिका से शेखर प्रसाद तो लंदन से पहुंचे डा. उद्धेश्वर

परवेज अख्तर/सिवान: गुठनी चाहने से अधिकार प्राप्त नहीं होता कर्तव्य से स्वतः अधिकार मिल जाता है। व्यक्ति को अपने कर्म कर्तव्य पर विशेष ध्यान देना चाहिए, क्योंकि बिना परिश्रम व कर्म किए कुछ भी प्राप्त नहीं होने वाला है। यह बातें प्रखंंड के तरका गांव में आयोजित 11 दिवसीय रुद्रमहायज्ञ के दौरान 10वें दिन बुधवार को अयाेध्या से पधारे कथावाचक पंडित प्रेमभूषण महाराज ने कही। उन्होंने कहा कि जब किसी व्यक्ति की कुछ भी पाने की इच्छा शक्ति हो वह कठिन परिश्रम एवं कर्त्तव्य से ही संभव है इसलिए व्यक्ति को अपनी ऊंची सोच एवं इच्छा शक्ति के अनुसार अपने कर्त्तव्य का पालन तथा परिश्रम करना चाहिए। उन्होंने भगवान रामचरित मानस के विभिन्न बिंदुओं पर प्रकाश डालते हुए लोगों को इसका अध्ययन करने की सलाह दी।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

वहीं महाराज से रामकथा श्रवण करने के लिए अमेरिका से शेखर प्रसाद तथा लंदन से डा. उद्धेश्वर सिंह कथा पंडाल में मौजूद होकर परमपूज्य प्रेमभूषण महाराज व पं. राजन महाराज के प्रति अपनी अटूट श्रद्धा भक्ति का प्रदर्शन किया। शेखर प्रसाद ने बताया न्यूयार्क में हमारे आवास और आसपास के हमसे जुड़े काफी लोग परमपूज्य प्रेमभूषण व राजन महाराज के कथा का श्रवण करते हैं। मैं पिछले ही महीने कोलकाता काली घाट दर्शन को आया था और कथा का आयोजन पूज्य महाराज के पैतृक गांव में हो रहा है।

यह जानकर बहुत खुशी हुई और मैं यहां तुरंत पहुंच गया। राजन महाराज ने बताया कि महायज्ञ की पूर्णाहुति बुधवार को होगी। विश्वविख्यात रामकथा वाचक पं. राजन महाराज के सानिध्य में उनके पूज्य पिता पं. शिवजी तिवारी की तीसरी पुण्यतिथि और प्रतिमा अनावरण कार्यक्रम के मौके पर देश-विदेश से पहुंचे लोगों के प्रति आभार व्यक्त किया तथा रामकथा के सभी वादन संचालकों तथा भजनकर्ताओँ व सहयोगियों को सम्मानित किया। मंच संचालन तारकेश्वर मिश्रा ने किया। वहीं कथा श्रवण करने कई भागवत कथावाचक भी पधारे। इनमें मुख्य रूप से पं. रवि प्रकाश मिश्र, मुखिया ललन सिंह भी शामिल थे।