गुठनी: वैज्ञानिक विधि से खेती करने पर किसानों की बढ़ेगी आय : कृषि वैज्ञानिक

0

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के गुठनी प्रखंड मुख्यालय स्थित ई किसान भवन में शुक्रवार को प्रधानमंत्री कृषि सिचाई योजना के तहत प्रखंड स्तरीय कार्यशाला सह प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन प्रखंड प्रमुख विध्यवासिनी नारायण सिंह व बीडीओ आनंद प्रकाश ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए भगवानपुर हाट से आए कृषि वैज्ञानिक सरिता देवी ने बताया कि वैज्ञानिक विधि से खेती करने से किसानों की आय बहुत बढ़ सकती है। जल संरक्षण करते हुए स्प्रिंकलर या ड्रिप सिचाई योजना से सिचाई करने की आवश्यकता है। पारंपरिक तरीके से अलग हटकर खेती करने से ही कृषि से आय संभव है। सर्वप्रथम रासायनिक उर्वरकों का उपयोग करना बंद कर देना चाहिए। अब जैविक खादों का उपयोग करके मिट्टी व उत्पाद दोनों को पवित्र रख सकते हैं। अत्यधिक रासायनिक उर्वरकों के प्रयोग से खेतों में उर्वरता समाप्त हो गई है।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

अब जैविक खाद, नैनो यूरिया और प्राकृतिक संसाधनों से खेती करने की आवश्यकता है। सरकार द्वारा बागवानी के तमाम योजनाओं में काम हो रहा है। आम, लीची, पपीता, केला की खेती पर शत-प्रतिशत अनुदान मिल रहा है। इसके लिए किसानों को अपना किसान रजिस्ट्रेशन, आधारकार्ड, पैन कार्ड, रसीद और एलपीसी लेकर कार्यालय में संपर्क किया जा सकता है। वहीं बिहार प्रोत्साहन कृषि नीति के तहत प्रोजेक्ट डालकर मुर्गी का दाना, आचार, मशरूम इत्यादि के लिए सरकार द्वारा 25 लाख से पांच करोड़ तक का योजना दिया जा रहा है।

90 प्रतिशत अनुदान वाले प्रधानमंत्री कृषि सिचाई योजना, स्प्रिंकलर, ड्रिप समेत तमाम सिचाई यंत्र उपलब्ध कराए जा रहे हैं। कार्यक्रम को प्रमुख, बीडीओ व अन्य कर्मियों ने संबोधित किया। इस मौे पर बीएओ दीनानाथ राम, प्रखंड उद्यान पदाधिकारी रामप्रताप चंद्र, कृषि समन्वयक मृत्युंजय सिंह, अशोक यादव, अभिषेक यादव, किसान सलाहकार मुस्तकीम अंसारी, राजेश शर्मा, सुनील कुमार, प्रमोद कुमार, मनोज कुमार, अजय कुमार, किसान सलाहकार समिति के अध्यक्ष दिनेश यादव, बीडीसी सदस्य मनोज पांडेय, मनोज ठाकुर, रवींद्र पासवान, सोनू तिवारी, अशोक पांडेय समेत काफी संख्या में लोग उपस्थित थे।