गुठनी: चेकपोस्ट पर खुले आसमान के नीचे ड्यूटी करते हैं जवान

0
police
  • श्रीकरपुर चेकपोस्ट विभागीय उदासीनता का शिकार
  • चेकपोस्ट पर आजतक नहीं मिली है कोई सुविधा

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के गुठनी थाना क्षेत्र के श्रीकरपुर चेकपोस्ट पर आज भी बुनियादी सुविधाओं का अभाव है। इसको विभागीय उदासीनता कहें या लापरवाही। आज तक इसको सुविधाओं से लैस नहीं किया गया। यहां तैनात सुरक्षाकर्मी ठंडी, गर्मी व बरसात में खुले आसमान के नीचे ड्यूटी करने के लिए मजबूर हैं। इस चेक पोस्ट पर तैनात सुरक्षाकर्मियों को सर्दी व बरसात के मौसम में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। जब तेज बारिश व सर्द हवाओं के बीच यह खड़े होकर ड्यूटी करते हैं। इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार चेकपोस्ट पर शौचालय, चापाकल, बिजली, सीसीटीवी, आवास, निजी बिल्डिंग व अन्य तरह की बुनियादी सुविधाओं का अभाव है। यहां तैनात सुरक्षाकर्मी किसी तरह ड्यूटी करके अपनी जिम्मेवारी का पालन करते हैं। हालांकि डीआईजी रविन्द्र कुमार के निरीक्षण के दौरान बुनियादी सुविधाओं को लेकर मांग उठी थी। ग्रामीणों का कहना है कि लगातार इसी रास्ते राज्य के अधिकारी व मंत्री जाते हैं। लेकिन किसी का भी ध्यान इस सुविधा विहीन चेकपोस्ट पर आजतक नहीं गया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

बिहार की अंतिम सीमा पर है चेकपोस्ट

राज्य में शराबबंदी कानून लागू होने के बाद थाना क्षेत्र के श्रीकरपुर चेकपोस्ट की स्थापना की गयी। यहां पर आबकारी विभाग द्वारा होमगार्ड जवानों की तैनाती की गई। इस संबंध में विभागीय जानकारी के अनुसार कुल 20 से 25 जवान तैनात रहते हैं। यहां स्थानीय थाने से एक एएसआई की भी नियुक्ति की जाती है। बावजूद भी श्रीकरपुर पोस्ट पर सुविधाएं न मिलना विभागीय उदासीनता का उदाहरण है।

सीमा पार से आने वालों पर निगरानी के लिए बना चेकपोस्ट

जिले के अंतिम छोर पर स्थित श्रीकरपुर चेकपोस्ट बिहार-यूपी की सीमा पर बनाया गया है। जहां यूपी से आने वाले लोगों पर यहां तैनात सुरक्षाकर्मी नजर रखते हैं। यह सीमा यूपी के लार, सलेमपुर, देवरिया, भागलपुर, पिंडी, मेहरौना को जोड़ता है। राज्य सरकार द्वारा शराबबंदी कानून को लागू करने के बाद इसकी अहमियत और बढ़ गई। यहां आने वाले लोगों की सघन जांच, वाहनों की चेकिंग सख्ती से की जाती है। बावजूद इसके स्थापना के बाद यह लगातार उपेक्षा का शिकार होते गया।

क्या कहते हैं डीआईजी

सारण रेंज के डीआईजी रविन्द्र कुमार का कहना है कि यहां सीसीटीवी कैमरे, बुनियादी सुविधाओं व जवानों की विशेष व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है। वहां जल्द सारी सुविधाएं मुहैया करा दी जाएगी।