गुठनी: सरयू नदी के बढ़ते जलस्तर से गांव पानी से घिरे

0
saryu nadi
  • दो हजार लोगों के सामने भुखमरी की स्थिति
  • बाढ़ से गांवों को जोड़ने वाली सड़क भी डूबी

परवेज अख्तर/सिवान: सरयू नदी के लगातार बढ़ रहे जलस्तर से जहां निचले इलाकों में पानी घुस गया है वहीं प्रखंड के सुनहला पंचायत के आधा दर्जन गांव पूरी तरह से पानी से घिर गए हैं। ग्रामीणों का कहना था कि सोनहुला पंचायत के धर्मपुर, श्रीकरपुर, पुरैना, सोनहुला, बिहारी गांव पूरी तरह से जलमग्न हो गया है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव में रहने वाले 2,000 से अधिक लोग इससे पूरी तरह प्रभावित हैं। उन्होंने बताया कि लगातार जलजमाव से उनके सामने विकट परिस्थितियां उत्पन्न हो गई हैं और लोग भुखमरी की कगार पर आ गए हैं। वहीं पानी के लगातार जमा होने पर कई तरह के संक्रामक रोगों के फैलने की आशंका बढ़ गई है। सोनहुला पंचायत बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला पंचायत है। लोगों की माने तो धर्मपुर, श्रीकरपुर, सोनहुला को जोड़ने वाली मुख्य सड़क पर पानी लगने से आवागमन बाधित हो गया है। बीडीओ आनंद प्रकाश का कहना है कि मौके पर जाकर इस समस्या से रूबरू होना है। इसके नुकसान का आकलन करना होगा।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

किसानों की फसल को हुआ नुकसान

सरयू नदी में आई बाढ़ से सोनहुला पंचायत के निचले इलाकों में लगी फसलो को काफी नुकसान हुआ है। लेकिन इसका आज तक कोई जमीन सर्वे नहीं किया गया है। जिससे किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरें खिंच गई हैं। लोगों मे सल्हनथी देवी, जनक ठाकुर, रोहित राम, महाजन सहनी, करण सहनी, गोरख राम, गुलाब राम, कालीचरण सहनी, रामदेव सहनी, लालमीना देवी, बिंदा देवी, ललिता देवी, चनमती देवी, बेला देवी ने जिला प्रशासन से बाढ़ प्रभावित पंचायत का दौरा करने, फसलों के नुकसान का आकलन करने, पीड़ितों के लिए उचित व्यवस्था करने, उन्हें मुआवजा देने, पशुओं के चारे का व्यवस्था करने की अपील की।

क्या कहते हैं एसडीओ

एसडीओ रामबाबू बैठा ने कहा कि बाढ़ विभाग के साथ मिलकर स्थिति पर नजर रखी जा रही है। इससे हुए नुकसान की जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी।

घरों में घुसा बरसात का पानी

बड़हरिया। प्रखंड के बभनवारा दलित बस्ती में वर्षा का पानी घुस जाने के कारण आधा दर्जन परिवार प्रभावित हैं। ये मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण करते हैं। वर्षा के पानी के साथ बगल के नदी का भी पानी घुस गया है। दलित बस्ती के लोगों ने बताया कि घरों में दो फीट से अधिक जलजमाव हो गया है। पानी लगने से खाना बनाना मुश्किल हो गया है। साथ ही सांप व जोंक भी घरों में अपना जगह बना चुके हैं। पीड़ित परिवार अपने मवेशियों को लेकर सड़क पर गुजर बसर कर रहे हैं। दलित बस्ती का सात से अधिक परिवार सहायता पर आश्रित रह गया है। पीड़ित श्यामलाल राम, बादशाह महतो, अनिल कुमार महतो, सुनील कुमार महतो, बबलू कुमार महतो, विश्वनाथ कुमार महतो, भागवत राम के लगभग 20 से 25 लोग व एक दर्जन मवेशी भी भुखमरी की कगार पर पहुंच चुके हैं। वहीं ग्रामीण शिवनाथ राम, सरोज कुमार, दिलेश्वर राम, राजेश राम, जितेंद्र कुमार राम, सत्येन्द्र कुमार राम, विराज महतो ने बताया कि दो सप्ताह पहले हुए भारी वर्षा के कारण घरों में पानी घुस गया है पीड़ित परिजनों के अलावा ग्रामीणों ने सीओ से मदद की गुहार लगाई है।