हाजीपुर: राघोपुर के मदहा में बाढ़ के पानी में डूबने से मां- बेटी की मौत

0
nadi me duba

हाजीपुर: बाढ़ग्रस्त राघोपुर प्रखंड के रुस्तमपुर ओपी थाना क्षेत्र के मदहा गांव में गुरुवार को लगभग दो बजे बाढ़ के पानी में डूबने से मां और बेटी की मौत हो गई। यह घटना उस समय हुई जब महिला बाजार से खाने का सामान व दवा लेकर घर लौट रही थी। घर के पास पुलिया पर बाढ़ के पानी के तेज बहाव में दोनों फंस गईं और डूबने से उनकी मौत हो गई। मृतका पनमा देवी और रीता कुमारी मदहा गांव निवासी भूनदेव पासवान की पत्नी और बेटी थी ।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

ग्रामीणों के सहयोग से घंटों मशक्कत के बाद दोनों के शव को ढूंढ लिया गया । इसकी सूचना परिजनों को दी गई। घटना की जानकारी मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। परिजनों का रो- रो कर बुरा हाल है। बहरामपुर पंचायत की मुखिया शकुंतला देवी व सरपंच पति संजय कुमार यादव ने घटना की जानकारी स्थानीय थाना एवं राघोपुर अंचलाधिकारी सचिंदर कुमार को दी। जानकारी मिलते ही रुस्तमपुर ओपी थाना अध्यक्ष शुभ नारायण प्रसाद यादव ने घटनास्थल पर पहुंच शव को अपने कब्जे में ले लिया और पोस्टमार्टम कराने के लिए हाजीपुर सदर अस्पताल भेज दिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार बहरामपुर पंचायत के मदहा गांव निवासी 40 वर्षी पनमा देवी व 15 वर्षीय रीता कुमारी दोनों मां बेटी बाजार से खाने -पीने का सामान व दवा लेकर बाढ़ का पानी हेलते हुए अपने घर के पास पुलिया पर आयी।

पुलिया पर पानी के तेज बहाव में सबसे पहले रीता कुमारी फंस गई। बेटी को बचाने के दौरान पनमा देवी पानी के तेज धार में बह गई और दोनों मां- बेटी की डूबने से मौत हो गई। पीछे से आ रहे कुछ ग्रामीणों ने दोनों को डूबता देख शोर मचाना शुरू कर दिया। डूबने की आवाज सुनकर ग्रामीण दोनों को बचाने के लिए पानी में कूद पड़े। लेकिन बचा नहीं पाए। स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि प्रशासन की लापरवाही के कारण यह घटना घटी है। पंचायत में बाढ़ का पानी भरा हुआ है। स्थानीय प्रशासन की तरफ से पंचायत में अभी तक एक भी नाव की व्यवस्था नहीं की गई है। अगर नाव रहती तो दोनों मां बेटी की डूबने से मौत नहीं होती।