सीवान में एक निजी अस्पताल में समेत सभी केंद्रों पर बुजुर्गों के लिए टीकाकरण शुरू

0
  • टीकाकरण के लिए ऑनलाइन पंजीकरण जरूरी
  • ऑनसाइट भी किया जा रहा है पंजीकरण
  • उत्साहित होकर टीकाकरण केंद्र पहुंच रहे बुजुर्ग

सीवान : जिले में कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण का तीसरा चरण सोमवार से शुरू हुआ। मंगलवार को जिले के सदर अस्पताल समेत सभी सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर बुजुर्गों के टीकाकरण की सुविधा शुरू कर दी गयी। वहीं एक निजी अस्पताल श्री साईं हॉस्पिटल एंड ट्रामा सेंटर में भी टीकाकरण की शुरुआत की गयी है। सभी जगहों पर नि:शुल्क टीकाकरण की शुरुआत की गयी है। इसमें 60 वर्ष से अधिक के बुजुर्गों को टीका लगाया गया। कोविड-19 टीका लेने वाले बुजुर्गों ने इसे पूरी तरह सुरक्षित बताया। टीका लगवाने के बाद अच्छा महसूस कर रहे हैं। किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं हो रही है। जब ये टीका हमारी सुरक्षा के लिए है तो इससे डरने की क्या जरूरत है। टीका लगवाने के बाद लालबाबू प्रसाद ने कहा कि लोगों को खुद आगे आकर कोराना वैक्सीन लगवानी चाहिए, जिससे वे सुरक्षित रहें।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

ऑनसाइट किया गया बुजुर्गों का रजिस्ट्रेशन:

सिविल सर्जन डॉ. यदुवंश कुमार शर्मा ने बताया कि कोविड टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी है। ऐसे में अगर कोई व्यक्ति सेल्फ रजिस्ट्रेशन करने में असमर्थ है तो उसका रजिस्ट्रेशन ऑनसाइट यानि टीकाकरण केंद्र पर किया जा रहा है। रजिस्ट्रेशन के लिए सरकार द्वारा निर्गत पहचान पत्र जैसे आधार कार्ड होने चाहिए। साथ ही मोबाइल फोन भी होना चाहिए| मोबाइल फोन पर आए ओटीपी को कोविन पोर्टल 2.0 पर फ़ीड करना होगा। रजिस्ट्रेशन के समय किस तारीख को और कहां टीका लेना है यह खुद तय कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि फिलहाल पोर्टल का सर्वर डाउन चल रहा है| इस वजह से थोड़ी परेशानी हो रही है।

45 से 60 साल के हैं तो ऐसे मिलेगी वैक्सीन:

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. प्रमोद कुमार पांडेय ने कहा तीसरे चरण में उन्हीं लोगों को वैक्सीन दी जायेगी जो 60 साल से ऊपर के हैं या 45 साल से ऊपर जो गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं। डायबिटीज, हाइपरटेंशन, कैंसर, दिल, गुर्दा, फेफड़ों से जुड़ी बीमारियां, किडनी से जुड़ी बीमारियां एवं एचआईवी समेत 20 बीमारियों को शामिल किया गया है। इस उम्र के लोगों को अपनी बीमारी का सर्टिफिकेट से जुड़ा डॉक्टर का पर्चा दिखाना होगा। यह सर्टिफिकेट भी रजिस्टर्ड अस्पताल या रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर डॉक्टर के ही मान्य होंगे।

तीन तरीकों से करा सकते हैं रजिस्ट्रेशन:

  • कोविन पोर्टल
  • ऑनसाइट पंजीकरण के लिए चिह्नित निजी अस्पताल
  • आरोग्य सेतु एप के माध्यम से

वैक्सीन सुरक्षित है, बिना डरे कराएँ टीकाकरण:

देश में वैक्सीन को लॉन्च करने की अनुमति तभी मिलती है जब रेगुलेटरी बॉडी के मानक पर वैक्सीन की सुरक्षा और प्रभाव खरा उतरता है। सुरक्षा (सेफ्टी) सबसे महत्वपूर्ण कारक (फैक्टर) होता है। इसके लिए जितने भी जरूरी जांच और ट्रायल हैं वो वैक्सीन को लॉन्च करने से पहले सख्ती से पालन किए गए हैं। यही वजह है कि वैक्सीन सुरक्षित है, बिना डरे इसे जरूर लगवाएं।