गुठनी में साइकिल सवार को बचाने के क्रम में कार पोल से टकराई, हदीस नट की मौत

0

परवेज़ अख्तर/सिवान:
गुठनी-मैरवा मुख्य पथ पर चित्ताखाल के पास रविवार की सुबह साइकिल सवार को बचाने के क्रम में एक ऑल्टो कार साइकिल सवार को धक्का मारते हुए बिजली के खंभे में टकरा गई।इस घटना में साइकिल सवार समेत पांच लोग घायल हो गए।घायलों को इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां साइकिल सवार की स्थिति गंभीर होने के कारण चिकित्सकों ने सदर अस्पताल रेफर कर दिया। सिवान जाने के क्रम में रास्ते में ही साइकिल सवार की मौत हो गई। मृतक गुठनी चौराहा निवासी हदीस नट बताया जाता है। वहीं घायलों में हदीस नट का पुत्र फिरोज नट, हुसैनगंज थाने के सुरापुर निवासी शिल्पी श्रीवास्तव, अवध किशोर सहाय तथा चालक निहित सहाय शामिल हैं। जिनका इलाज चल रहा है। बताया जाता है कि हदीस नट अपने पुत्र फिरोज नट के साथ साइकिल से राशन लेकर घर लौट रहा था। इस दौरान गोरखपुर से सिवान लौट रही आल्टो कार के सामने आ गया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
muskan buty

साइकिल सवार को देख चालक ने उसे बचाने के लिए कार को मोड़ा तभी एक महिला अचानक सामने आ गई। इस दौरान चालक अपना नियंत्रण खो बैठा और साइकिल सवार को धक्का मारते हुए सड़क किनारे विद्युत पोल में टकरा गया, जिससे साइकिल सवार समेत पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना की जानकारी होते ही काफी संख्या में ग्रामीण एकत्रित हो गए। ग्रामीणों ने घटना की जानकारी थाने को दी। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और एंबुलेंस से घायलों को इलाज के लिए गुठनी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया जहां साइकिल सवार हदीस नट की स्थिति गंभीर होने के कारण चिकित्सकों ने सदर अस्पताल रेफर कर दिया, लेकिन रास्ते में ही उसकी की मौत हो गई। बताया जाता है कि कार में सवार सुरापुर निवासी शिल्पी श्रीवास्तव, अवध किशोर सहाय व चालक निहित सहाय सभी गोरखपुर से एक शादी समारोह से घर लौट रहे थे। इस घटना में साइकिल व कार पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। पुलिस ने कार को कब्जे में ले लिया है। प्रभारी थानाध्य्क्ष विनोद कुमार ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। वरीय पदाधिकारियों के निर्देश के अनुसार आगे की कार्रवाई की जा रही है।

हदीस की मौत से स्वजनों का रो-रोकर बुरा हाल

गुठनी चौराहा निवासी हदीस नट की मृत्यु के बाद परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। हदीस नट घर का कमाऊ सदस्य था जो कबाड़ बेच कर परिवार का खर्च चलाता था। उसे तीन पुत्र व चार पुत्रियां हैं जिनमें एक पुत्र तथा एक पुत्री की शादी हो चुकी है। उसकी मौत के बाद पत्नी मैरुन खातून, पुत्र निजामुद्दीन, रेयाजुद्दीन, पुत्री खुशबू, जुबैदा, रेखा, रुक्साना आदि का रो-रोकर बुरा हाल है। आसपास के ग्रामीण स्वजनों को ढाढ़स बंधा रहे थे।

अस्पताल परिसर में स्वजनों ने किया हंगामा, लगाया लापरवाही का आरोप

जिले के गुठनी थाना क्षेत्र के चित्ताखाल मोड़ पर रविवार की सुबह सड़क दुर्घटना में हुई हदीस नट की मौत को ले स्वजनों ने गुठनी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र परिसर में हंगामा किया। उनका कहना था कि गुठनी अस्पताल में न तो ऑक्सीजन है और न कोई दवा। इमरजेंसी में भी दवा बाहर से खरीदने पर विवश किया जाता है। उनका कहना था कि यदि अस्पताल कर्मी द्वारा हदीस नट का आरंभ में उचित इलाज किया जाता तो उनकी जान बच सकती थी। अस्पताल कर्मियों द्वारा किसी तरह का सहयोग नहीं किया गया और तुरंत सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया, जिस कारण रास्ते में उनकी मौत हो गई। स्वजनों ने स्वास्थ्य कर्मियों पर लापरवाही का आरोप लगाया।