मामले की सुनवाई को कोर्ट पहुंचे ससुराल पक्ष आपस में भिड़े, तीन घायल 

0
ghyal yuwak

परवेज़ अख्तर/सिवान :- सिवान कचहरी परिसर शुक्रवार को रणक्षेत्र में बदल गया। यहां दहेज को लेकर मामले की सुनवाई में पहुंचे दोनों पक्षों के लोगों में जमकर मारपीट हुई । मारपीट में एक पक्ष के तीन लोग घायल हो गए। जिसमें एक महिला समेत अबोध बच्ची भी शामिल है। घायलों को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उनका इलाज चिकित्सकों ने किया। घायलों में एक बिहार पुलिस का जवान भी है जो सीतामढ़ी के पुपरी थाना में कार्यरत है। घायलों की शिनाख्त दारौंदा थाना क्षेत्र के सवान विग्रह निवासी सवालिया सिंह का पुत्र प्रवींद्र कुमार उसकी बहन किरण देवी तथा किरण की नौ माह की दूधमुंही बच्ची सुधा शामिल है। मामले में बताया जाता है कि  दारौंदा थाना खेत्र के सवान विग्रह गांव निवासी सवालिया की पुत्री किरण देवी की शादी सारण जिले के एकमा थाना क्षेत्र के रीठ गांव निवासी अनिल तिवारी के पुत्र नितेश तिवारी के साथ 2016 में हुई थी। शादी के बाद से ससुराल वालों द्वारा दहेज के लिए विवाहिता को आए दिन प्रताड़ित करते थे तथा उसके साथ मारपीट भी करते थे। बाद में थक हार कर  विवाहिता ने कानून की शरण लेते हुए दारौंदा  थाने में प्राथमिकी कांड सं. 55/18 धारा 498 (ए)34 भादवि के अंतर्गत प्राथमिकी दर्ज कराई थी जिसमें पति नितेश तिवारी उर्फ बिट्टू तिवारी, सास निर्मला देवी, ससुर अनिल तिवारी उर्फ धनेश्वर तिवारी, ननद निधि कुमारी, मोनी कुमार एवं देवर निखिल तिवारी उर्फ निशु तिवारी को आरोपित किया। इस मामले में मुकदमे का निपटारा वर पक्ष के अधिवक्ता प्रेम बाबू के द्वारा समझा बुझाकर शांतिपूर्वक करा दिया गया तथा विवाहिता के पति व उसके ससुराल वालों द्वारा बीते 11 जुलाई को विदाई कराकर किरण को अपने घर लेकर चले गए, लेकिन जब विवाहिता अपने मायके गई तो मामला यथावत बना रहा।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal
आरोपी पति नितेश तिवारी
आरोपी पति नितेश तिवारी

इसके बाद विवाहिता की पिटाई करा उसे मायके छोड़ दिया। इस बात की भनक जब पीड़िता किरण देवी के भाई सह बिहार पुलिस के जवान प्रवींद्र कुमार सिंह को लगी तो वे छुट्टी लेकर अपने गांव पहुंचे तथा इसकी सूचना सुलहनामा लगाए गए अधिवक्ता प्रेम बाबू को दी। जहां अधिवक्ता प्रेम बाबू ने पक्ष एवं विपक्ष दोनों को शुक्रवार को अपने सीट पर बुलाया था। इसी बीच दोनों पक्षों से कोर्ट परिसर में ही कहा सुनी हो गई और बात मारपीट तक पहुंच गई। अचानक कोर्ट परिसर में मारपीट को देख लोगों की भीड़ काफी संख्या में जाम हो गई। घायल किरण देवी ने बताया कि पति नितेश तिवारी एवं इनके फूफा भगवानपुर थाना क्षेत्र के अरुआ गांव निवासी हरेंद्र तिवारी एवं दो अज्ञात लोगों ने मारपीट कर घायल कर दिया है। इस मारपीट में मेरी नन्हीं बच्ची को भी हल्की चोट आई है। तीनों घायलों का इलाज सदर अस्पताल में कराया गया जहां पुलिस जवान प्रवींद्र कुमार सिंह की हालत सर में चोट लगने के कारण गंभीर बनी हुई थी। पीड़िता किरण देवी के भाई प्रवींद कुमार सिंह ने बताया कि इलाज के बाद मारपीट करने वालों के विरुद्ध नगर थाना में प्राथमिकी दर्ज कराउंगा। इस संदर्भ में नगर थानाध्यक्ष सुबोध कुमार ने कहा कि पीड़ित पक्ष की ओर से अगर आवेदन प्राप्त हुआ तो प्राथमिकी दर्ज कर आगे  की कार्रवाई की जाएगी।

मारपीट देख दंग रह गए अधिवक्ता, मुकदमा लड़ने से किया इन्कार

वर पक्ष के अधिवक्ता प्रेम बाबू के सीट पर जब मारपीट होने लगी तो वे यह देख दंग रह गए और वर पक्ष की ओर से मुकदमा लड़ने से इन्कार कर दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि घटना की सारी जानकारी मैं न्यायाधीश को दूंगा।

कहते हैं पीड़ित पक्ष के अधिवक्ता

पीड़ित विवाहिता पक्ष के अधिवक्ता धर्मनाथ सिंह ने कहा कि वर पक्ष के द्वारा कचहरी परिसर में अधिवक्ता के सीट पर मारपीट करना गलत बात है। लोग यहां न्याय के लिए आते हैं लेकिन वर पक्ष के लोगों द्वारा न्याय वाली जगह पर मारपीट कर दिए।