खुफिया रिपोर्ट: नेपाल के रास्ते चल रहा ड्रग्स का धंधा, मुजफ्फरपुर से भेजी जा रही खेप, ऐसे चलता है नशे का कारोबार

0

पटना: सूबे में ड्रग्स की डिमांड अधिक हो गयी है। ड्रग्स (स्मैक, चरस, गांजा, व्हाइट पाउडर) नेपाल के रास्ते मुजफ्फरपुर पहुंचता है और यहीं से उत्तर बिहार के आधा दर्जन जिलों में सप्लाई होती है। हर दिन 50 लाख से अधिक का धंधा हो रहा है।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

मुजफ्फरपुर बना गेटवे ऑफ बिहार

खुफिया एजेंसियों की मानें तो नेपाल से सटे जिले मोतिहारी के रक्सौल, सीतामढ़ी के सोनबरसा, भिट्ठामोड़ और मधुबनी का जयनगर ड्रग्स का बड़ा कलेक्शन प्वाइंट हैं, जहां नेपाल से खेप आने के बाद सुरक्षित रखी जाती है। फिर वहां से दूसरा कैरियर बस से लेकर मुजफ्फरपुर पहुंचता है। तस्करों के लिए मुजफ्फरपुर ‘गेटवे ऑफ बिहार’ बना है। यहां दो दर्जन से अधिक कैरियर सक्रिय हैं, जो दूसरे जिलों के लिए खेप लेकर जाते हैं। बसों में जांच-पड़ताल नहीं होती है। इसलिए कैरियर बस का इस्तेमाल अधिक करते हैं। मुजफ्फरपुर स्थित बैरिया बस स्टैंड इलाके के साथ अहियापुर, सदर, मिठनपुरा, बेला थाना क्षेत्र में भी ड्रग्स सिंडिकेटर सक्रिय हैं। वे पुलिस की गतिविधियों की टोह भी लेते रहते हैं। बताया जाता है कि ड्रग्स सप्लाई को लेकर जिले में कार्यरत खुफिया एजेंसी भी स्थानीय पुलिस व मुख्यालय को अवगत करा चुकी है। इधर, एसएसपी जयंतकांत ने बताया कि स्मैक के एक दर्जन से अधिक धंधेबाजों को पुलिस ने पकड़ा है। इनमें से अधिकतर के खिलाफ चार्जशीट की गई है। पुलिस प्राथमिकता देकर अभियान चला रही है। आगे भी तस्करों की गिरफ्तारी होगी।

पीटठू या एयर बैग में भरकर खेप पहुंचाते हैं कैरियर

सीतामढ़ी, मोतिहारी व मधुबनी से कैरियर के माध्यम से माफिया ड्रग्स की सप्लाई मुजफ्फरपुर के अलावा पटना, गया, पूर्णिया तक करते हैं। युवा कैरियर से काम लिया जा रहा है। ये ड्रग्स को पीटठू या एयरबैग में भरकर उसकी खेप ठिकानों तक पहुंचाते हैं, जहां पूर्व से बने नेटवर्क के जरिये खरीदार तक इसे पहुंचाया जाता है। इससे मोटी कमाई हो रही है। मुजफ्फरपुर में हर दिन सात से दस लाख का धंधा होता है।

चाय दुकान पर होती है अधिक खपत

सूत्रों की मानें तो ड्रग्स की खपत चाय दुकानों पर अधिक होती है, जहां सिगरेट के माध्यम से युवा उसका कस लेते हैं। चाय दुकान पर पुलिस भी जांच नहीं करती है, जिससे तस्कर व कैरियर वहां इसकी सप्लाई करते हैं। मिठनपुरा के तीन कोठिया इलाके और अहियापुर के दादार-पुलिस लाइन के समीप चाय दुकानदार स्मैक का धंधा करते हैं, जिसे मिठनपुरा थाने की पुलिस ने बीते माह गिरफ्तार किया था।

349 पुड़िया स्मैक के साथ पिता व दो बेटे गिरफ्तार

काजी मोहम्मदपुर पुलिस ने मंगलवार को सादपुरा के दुर्गा स्थान इलाके में एक घर से 349 पुड़िया स्मैक जब्त की है। मौके से तीन आरोपितों को दबोचा है। इनकी पहचान अजय कुमार और उसके पुत्र विक्रम कुमार व विक्की कुमार के रूप में हुई है। बता दें कि इससे पहले पिछले साल नगर थाने की पुलिस ने सरैयागंज टावर और बालूघाट से मादक पदार्थ के तस्करों को पकड़ा था। इनमें नेपाल के भी तस्कर शामिल थे। कार से ये लोग खेप लेकर महाराष्ट्र जा रहे थे।