अभी-अभी:– सिवान के चांप में दो लोगों की दर्दनाक मौत, परिजनों में कोहराम

0
  • सिवान से छपरा गई बारात में शामिल होकर लौटे थे दोनों
  • मृतकों की पहचान गौहर आलम तथा साजिद अली के रूप में हुई

परवेज़ अख्तर/सिवान:
जिले के सराय ओपी थाना क्षेत्र के चांप गांव के समीप एक अनियंत्रित स्कॉर्पियो ने बाइक सवार दो युवकों को रौंद डाला।जिससे दोनों की दर्दनाक मौत हो गई।उधर मौत की सूचना मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया है।घटना के संबंध में प्राप्त जानकारी के मुताबिक एक  बाइक पर सवार दोनों युवक छपरा से शादी अटेंड कर गोपालगंज के हथुआ जा रहे थे।कि तभी उक्त स्थान पर विपरीत दिशा की ओर से आ रही एक अनियंत्रित स्कार्पियो ने जबरदस्त ठोकर मार दी।जिससे बाइक पर सवार दोनों लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।आनन-फानन में स्थानीय पुलिस के सहयोग से दोनों घायलों को इलाज हेतु सिवान सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां ड्यूटी पर तैनात चिकित्सा पदाधिकारी डॉक्टर अहमद अली ने घायलों में से एक युवक को तुरंत मृत घोषित कर दिया तथा दूसरा घायल की मौत इलाज के दौरान सिवान सदर अस्पताल में ही हो गई।मृतक की पहचान गोपालगंज जिले की हथुआ चिक टोली निवासी अरशद अली के पुत्र गौहर आलम तथा पचरुखी थाना क्षेत्र के शाह तकिया निवासी इकबाल अहमद के पुत्र साजिद अली के रूप में की गई है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

hospital

परिजनों ने बताया कि गौहर आलम तथा साजिद अली जो दोनों रविवार को हसनपुरा थाना क्षेत्र के सेमरी गांव से गई बारात में शामिल होने के लिए बाइक से छपरा गए हुए थे।और उधर से बारात कर एक ही बाइक पर सवार होकर दोनों हथुआ जा रहे थे।कि तभी चांप गांव के समीप विपरीत दिशा से आ रही स्कार्पियो ने जबरदस्त ठोकर मार दी।जिससे यह घटना घटित हुई।घटना के बाद स्कार्पियो चालक वाहन लेकर फरार बताया जा रहा है।उधर पुलिस ने दोनों शव को बरामद कर सिवान सदर अस्पताल में पोस्टमार्टम की प्रक्रिया शुरू कर दी है।लेकिन खबर प्रेषण तक जिला पदाधिकारी महोदय का अनुमति न मिलने के कारण दोनों शव सदर अस्पताल में पड़ा हुआ था। उधर पोस्टमार्टम की प्रक्रिया व परिजनों को मुआवजा देने के लिए लावारिस शव मुक्ति समिति के सदस्यों ने इसकी सूचना सदर अनुमंडल पदाधिकारी को दे दी है।तथा कमेटी के सदस्यों ने जिला पदाधिकारी महोदय से अनुमति कराने की प्रक्रिया कर रहै है।ताकि दोनों शव का पोस्टमार्टम रात्रि में ही करा कर परिजनों को सौंप दिया जाए।